Pregnancy Months in Hindi | गर्भावस्था के 9 महीने




Pregnancy months and weeks in Hindi, जैसा की हम सबको पता हैं की गर्भावस्था की अवधि 40 सप्ताह यानि की 9 महीने की होती है । आज हम इन 40 सप्ताह में, गर्भवस्था के दौरान गर्भवती महिला और उसके भ्रूण में पल रहे शिशु में होने वाले विकास और परिवर्तन की महत्व्पूर्ण जानकारी इक्कठा करेगे । जिससे की शिशु और गर्भवती महिला की सही तरीके से देखभाल हो सके और समय रहते किसी भी तरह की लापरवाही और अनहोनी को रोका जा सके

Pregnancy Months in Hindi




First Pregnancy months Details in Hindi

गर्भावस्था के 1 से 4 सप्ताह और गर्भावस्था के पहले महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..
किसी भी गर्भवती महिला के गर्भावस्था के 1 से 4 सप्ताह बड़ा कठिनाइयो भरा होता हैं । इन दिनों गर्भवती महिला और उसके होने वाले शिशु में कुछ खास परिवर्तन देखनो को मिलता है जो की है। …..

☆ निषेचित अंडा विभाजित होना शुरू होता है और कोशिकाओं के झुंड के रूप में बढने लगता है ।
☆ प्रति नाल विकसित होने लगती है जिससे शिशु पोषक तत्व ग्रहण करता है ।
☆ इस समय शिशु की लंबाई व वजन में तेजी से बढ़ोतरी होती है । अमूमन शिशु की लंबाई, इन दिनों में 0.5 – 0.7 तक विकशित हो जाती हैं । जो की चावल के दाने से भी छोटा होता हैं ।
☆ बच्चे में रक्त कोशिकाएं आकर लेने लगती है ।

Second Pregnancy months Details in Hindi

गर्भावस्था के 5 से 9 सप्ताह और गर्भावस्था के दूसरा महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ भ्रूण में शिशु का दिमाग के तेज विकास के साथ ही अंगों का बनना शुरू हो जाता है.
☆ हाथ, पैर आठवें सप्ताह के अंत तक विकसित हो जाते है । लेकिन गुप्तांग विलुप्त रहता हैं
☆ आठवें सप्ताह के अंत तक शिशु की लंबाई 3cm और वजन लगभग-लगभग 1 ग्राम तक हो जाता है
☆ गर्भाशय पेट में मुलायम गांठ की तरह महसूस होता है।

यह भी देखें

loading…

Third Pregnancy months Details in Hindi

गर्भावस्था के 10 से 14 सप्ताह और गर्भावस्था के तीसरे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ अल्ट्रासॉउन्ड के माध्यम से जननांग की पहचान कर पाना सम्भव हो जाता है (लेकिन गर्भ में पल रहे बच्चे की पहचान करना या कराना कानून जुर्म हैं )
☆ आँखें, कान, पलकें विकशित होने लगती है , लेकिन पलकें अभी भी बंद रहती हैं
☆ शिशु के वोकल कॉर्डस बन चुके होते हैं। जिससे की शिशु का सिर हलचल कर सकता हैं
☆ शिशु के हड्डियों में सख्ती के साथ साथ नाखून भी बढ़ने लगता हैं

Fourth Pregnancy months Details in Hindi

गर्भावस्था के 15 से 19 सप्ताह और गर्भावस्था के चौथे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ भ्रूण में बच्चे की हलचल महशूस होना शुरू हो जाता है
☆ बालो का विकास इतना हो जाता है की सिर पर बाल दिखने लगते हैं।
☆ भौहें और पलको के भी बाल आने लगते हैं।
☆ आंखें टखने और कलाई का गठन हो जाता है और चमड़ी वसायुक्त हो जाती है

गर्भधारण से जुड़े लेख
संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
प्रेगनेंसी के दौरान क्या खाना चाहिए
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ

Fifth Pregnancy months Details in Hindi

गर्भावस्था के 20 से 24 सप्ताह और गर्भावस्था का पाँचवे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ एक सफेद चिकना स्त्राव शिशु की त्वचा की एम्नीओटिक पानी से रक्षा करता है।
☆ शिशु का वजन पिछले दो सप्ताह की तुलना दोगुना हो जाता है । इस महीने शिशु की लंबाई करीब 25 से 30 से.मी. और वजन करीब 200 से 450 ग्राम हो जाती है।
☆ शिशु की त्वचा पर झुर्रियां पड़ जाती हैं और त्वचा का रंग लाल हो जाता है।
☆ फेफड़ो का विकास होने लगता है

Sixth Pregnancy month Details in Hindi

गर्भावस्था के 25 से 29 सप्ताह और गर्भावस्था के छठवे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ शिशु की शारीरिक गतिविधियो में रोना , लात मारना और हिचकी आने की शुरवात हो जाती हैं
☆ आँखों का पूर्ण विकास ,पलके खुलने और बंद होने लगती हैं
☆ भ्रूण 12 इंच लंबा हो जाता है और बार-बार अपनी स्थिति बदलता रहता है

Seventh Pregnancy month Details in Hindi

गर्भावस्था के 30 से 34 सप्ताह और गर्भावस्था के सातवे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ शिशु की लंबाई 32-42 से.मी. यानि 15 इंच लंबा और वजन करीब 1100 ग्राम से 1350 ग्राम होता है।
☆ भ्रूण की आंखें रोशनी के प्रति प्रतिक्रिया करने लगती है
☆ ध्यान से सुनने पर शिशु की धड़कन सुनाई दे सकती है।
☆ शिशु अब शोर, संगीत, आवाज भी सुन सकता हैं और साथ ही साथ तेज आवाज पर जोर से प्रतिक्रिया करते पाना संभव हैं

Eight Pregnancy month Details in Hindi

गर्भावस्था के 35 से 39 सप्ताह और गर्भावस्था के आठवे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ इस महीने तक शिशु का वजन करीब 2000 – 2300 ग्राम और लंबाई 41-45 से.मी तक हो जाती है।
☆ जागने-सोने जैसी आदतो के साथ शिशु सक्रिय रहता है।
☆ यहाँ तक की शिशु अपना अंगूठा भी चूसने लगता है

Ninth Pregnancy month Details in Hindi

गर्भावस्था के 40 से 42 सप्ताह और गर्भावस्था के नौवे महीने की सम्पूर्ण जानकारी ……..

☆ आखिरी महीनो में शिशु की लंबाई 50 से.मी.और वजन 3200-3400 ग्राम तक हो जाता है ।
☆ ज्यादतर शिशु का सिर नीचे व पैर ऊपर की तरह होते हैं
☆ बच्चे की आंखें गहरी कबूतर रंग की होती हैं जो की जन्म के बाद रंग बदल सकता है।
☆ आखिरी महीनो में गर्भवती महिला में कुछ लक्षण दिखाई पड़ते है। जैसे-बच्चे के बढ़ने से दबाव के कारण सांस लेने में कठिनाई, थोड़ी-थोड़ी देर में मूत्र त्याग, छाती में जलन, कब्ज, सूजे हुए ढीले स्तन, अनिद्रा और पेट में मरोड़।
☆ इस महीनो में ऐसे पदार्थ खाने चा‍हिए जिससे गर्भवती महिला के स्‍तनों में दूध का अधिक स्राव हो। इससे प्रसव के बाद शिशु को मां का दूध अधिक मात्रा में मिल पाएगा।

हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

शीघ्रपतन से जुड़े लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

2 comments

  • महोदय,
    आप का धन्याद इस लेख के लिए|
    हर गर्भवती नारी के लिए 9 महीने उसके गर्भ में पल रहे शिशु में होने वाले विकास और परिवर्तन की जानकारी होना बहुत जरुरी है|
    जानकारी होने से ही वो उन सारे बातों का ध्यान रख सकेगी जो उसके स्वस्थ और उसके गर्भ में पल रहे शिशु के लिए आवश्यक है|
    नारी के लिए गर्भ के 9 महीने जितने महत्वपूर्ण है उतना ही महत्वपूर्ण है बच्चे के जन्म के बाद का तीन वर्ष|

    इस दौरान शिशु में होने वाले विकास के सभी चरणों को सवाधानीपूर्वक देखना बहुत जरुरी है| इन तीन सालों में शिशु का विकास जिस गति से होगा, उस गति से फिर कभी नहीं होगा|

    शिशु के विकास को उसकी लम्बाई और वजन (height & weight) के अनुपात से नापा जाता है|

    और शिशु के विकास की यह प्रक्रिया शुरू हो जाती है स्त्री के pregnancy से लेकर शिशु के तीन साल तक| यह समय शिशु के जीवन का बहुत ही critical समय होता है|

    आशा करता हूँ की आगे भी आप इसी तरह के ज्ञान वर्धक लेख और प्रकाशित करेंगे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *