Pollution : Causes, Types, Effects and Solution in Hindi | प्रदूषण : कारण, प्रभाव और समाधान


Pollution : Causes, Types, Effects and Solution in Hindi | प्रदूषण : कारण, प्रभाव और समाधान – हमारा शरीर पाँच तत्वों से मिलकर बना हैं – (आकाश, वायु, जल, अग्नि, पृथ्वी) इन पाँच तत्वों में सबसे अनमोल वायु और जल हैं। लेकिन आज हमारा आस पास का पर्यावरण लेवल इतना दूषित, विकृत और प्राण-लेवा होता जा रहा हैं की न हमे साफ-सुथरा पानी मिल पा रहा हैं और न ही साँस लेने के लिए शुद्ध और साफ हवा। प्रदूषण की समस्या आज मानव समाज के सामने खड़ी सबसे गंभीर समस्याओं में से एक है।



Pollution : Causes, Types, Effects and Solution in Hindi

पिछले कुछ दशकों में प्रदूषण जिस तेजी से बढ़ा है उसने भविष्य में जीवन के अस्तित्व पर ही प्रश्नचिन्ह लगाना शुरू कर दिया है | प्रदूषण के कारण धरती का तापमान दिन व् दिन बढ़ रहा है । ओजोन लेयर में कई छेद हो चुके हैं । नदियों और समुद्रों में जीव-जंतु मर रहे हैं । कई देशों का मौसम बदल रहा है । कभी बेमौसम बरसात हो रही है तो कभी बिलकुल वर्षा नहीं हो रही । ध्रुवों की बर्फ पिघल रही है, जिससे समुद्र के किनारे जो देश और शहर हैं, उनके डूबने का खतरा बढ़ गया है। हिमालय के ग्लेशियर पिघल रहे हैं।जिससे गंगा, यमुना और ब्रह्मपुत्र जैसी नदियों के लुप्त होने की संभावना आ गई है। अगर समय रहते हम जागरूक नहीं हुवे तो हमारा भविष्य काफी भयावह होने वाला है। आइये हम प्रदूषण से जुड़े कारण, समस्या और समाधान के बारे में जानते है।

What is Pollution | प्रदूषण की परिभाषा एवं अर्थ

पर्यावरण दो शब्दों परि और आवरण से बना है जिसका अर्थ है चारों ओर का घेरा हमारे चारों ओर जो भी वस्तुएं, परिस्थितियां या शक्तियां विद्यमान हैं, वे मानवीय क्रियाकलापों को प्रभावित करती हैं और उसके लिये दायरा सुनिश्चित करती हैं । इसी दायरे को पर्यावरण कहते हैं ।
दूसरे शब्दों में कहे तो प्रदूषण एक नई और नितांत आधुनिक समस्या या अभिशाप है जो हमारे विज्ञान की देन है और जिसका अर्थ है उस वातावरण व वायुमंडल का दूषित या जहरीला हो जाना, जिसमें हम रहते और सांस लेते हैं | प्रकृति के पाँच तत्व जल, अग्नि, वायु, आकाश एवं पृथ्वी पर्यावरण के अभिन्न अंग हैं जिनका आपस में गहरा सम्बंध है । इन पाँचों तत्वों में किसी एक का भी असंतुलन पर्यावरण के लिये अपूर्णनीय क्षतिकारक और विनाशकारी है । देखा जाये तो पर्यावरण को दो प्रमुख घटकों में विभाजित किया जा सकता है । पहला जैविक अर्थात बायोटिक जिसमें समस्त प्रकार के जीवजन्तु व वनस्पतियां (एक कोशिकीय से लेकर जटिल कोशिकीय तक ) दूसरे प्रकार के घटक में भौतिक अर्थात अजैविक जिसमें थलमण्डल, जलमण्डल व वायुमण्डल सम्मिलित हैं



Types of Pollution in Hindi | प्रदूषण के प्रकार

प्रदूषण को सामान्यत: दो वर्गों में विभाजित किया जा सकता है –

1. भौतिक प्रदूषण (Physical Pollution) या पर्यावरणीय प्रदूषण :- मानव के क्रिया – कलापों के कारण पर्यावरण के भौतिक संघटकों की गुणवत्ता में गिरावट को भौतिक प्रदूषण (Physical Pollution) या पर्यावरणीय प्रदूषण कहते है | ये चार प्रकार के होते है –जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, मृदा प्रदूषण

2. सामाजिक प्रदूषण :- सामाजिक प्रदूषण भौतिक या सामाजिक कारणों से होता है और ये भी चार प्रकार के होते है –जनसंख्या, सांस्कृतिक प्रदूषण, सामाजिक एवं शैक्षणिक पिछड़ापन, अपराध, झगड़ा – फसाद, चोरी, डकैती आदि, आर्थिक प्रदूषण जैसे गरीबी सामजिक प्रदूषण के अंतरगत आता हैं।

Causes of Pollution in Hindi | प्रदूषण के कारण

जनसंख्या का बढ़ता दबाव, आधुनिक औद्योगीकरण की प्रगति तथा इसके कारण वनस्पतियों और जीव-जन्तुओं की संख्या व प्रजातियों में दिन-प्रतिदिन होने वाली कमी ने पारिस्थितिकीय तन्त्र के असंतुलन को जन्म दिया है। जो की प्रदूषण होने का मुख्य कारण हैं। हम यहाँ पर मुख्य रूप से भौतिक प्रदूषण से जुड़े कारण प्रभाव और रोकथाम के बारे में जानेगे




Water Pollution : Causes, Effects and Solution in Hindi

जल में किसी बाहरी पदार्थ की उपस्थिति, जो जल के स्वाभाविक गुणों को इस प्रकार परिवर्तित कर दे कि जल स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हो जाए या उसकी उपयोगिता कम हो जाए जल प्रदूषण कहलाता है। अन्य शब्दों में ऐसे जल को नुकसानदेह तथा लोक स्वास्थ्य को या लोक सुरक्षा को या घरेलू, व्यापारिक, औद्योगिक, कृषीय या अन्य वैद्यपूर्ण उपयोग को या पशु या पौधों के स्वास्थ्य तथा जीव-जन्तु को या जलीय जीवन को क्षतिग्रस्त करें, जल प्रदूषण कहलाता है।

Water Pollution Causes in Hindi | जल प्रदूषण के कारण

i) मनुष्यों द्वारा नदियों में नहाना, कपडे धोना, जानवरों को धोना, मल का विसर्जन आदि।
ii) सफाई तथा सीवर का उचित प्रबंध्न न होना।
iii) विभिन्न औद्योगिक इकाइयों द्वारा अपने कचरे तथा गंदे पानी का नदियों, नहरों में विसर्जन।
iv) नदियों में कूड़े-कचरे, मानव-शवों और पारम्परिक प्रथाओं का पालन करते हुए उपयोग में आने वाले प्रत्येक घरेलू सामग्री का समीप के जल स्रोत में विसर्जन।
v) कृषि कार्यों में उपयोग होने वाले जहरीले रसायनों तथा खादों का पानी में घुलना।

Water Pollution Effects in Hindi | जल प्रदूषण का दुष्टप्रभाव

i) जल स्तर का नीचे गिरना
ii) दूषित पानी पीने के कारण मनुष्यों में कई प्रकार के बीमारियों का उत्पन होना | जैसे टाईफाइड, पीलिया, हैजा, गैस्ट्रिक आदि |
iii) पीने के पानी की कमी बढ़ती है, क्योंकि नदियों, नहरों यहाँ तक कि जमीन के भीतर का पानी भी प्रदूषित हो जाता है।

Water Pollution Solution in Hindi | जल प्रदूषण का समाधान

i) कारखानों द्वारा रसायनिक पदार्थ को पानी में घुलने से रोकना।
ii) नदियों या तालाबो में कूड़ा-कचरा नहीं डालना।
iii) कृषि में रसायनिक खादों के जगह जैविक खाद का इस्तेमाल करना।
iv) अनावश्यक जल संसाधनों के दुरपयोग से बचना।

जल प्रदूषण के बारे में अधिक जानने के लिए यह देखे –जल प्रदूषण : निबंध, प्रकार, कारण, दुष्टप्रभाव , समाधान और रोकथाम के उपाय

Air Pollution : Causes, Effects and Solution in Hindi

वायु विभिन्न गैसों का मिश्रण है जिसमें नाइट्रोजन की मात्रा सर्वाधिक 78 प्रतिशत होती है, जबकि 21 प्रतिशत ऑक्सीजन तथा 0.03 प्रतिशत कार्बन डाइ ऑक्साइड पाया जाता है तथा शेष 0.97 प्रतिशत में हाइड्रोजन, हीलियम, आर्गन, निऑन, क्रिप्टन, जेनान, ओज़ोन तथा जल वाष्प होती है। वायु में विभिन्न गैसों की उपरोक्त मात्रा उसे संतुलित बनाए रखती है। इसमें जरा-सा भी अन्तर आने पर वह असंतुलित हो जाती है और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित होती है। श्वसन के लिए ऑक्सीजन जरूरी है। जब कभी वायु में कार्बन डाई ऑक्साइड, नाइट्रोजन के ऑक्साइडों की वृद्धि हो जाती है, तो ऐसी वायु को प्रदूषित वायु तथा इस प्रकार के प्रदूषण को वायु प्रदूषण कहते हैं।

Air Pollution Causes in Hindi | वायु प्रदूषण के कारण

i) औद्योगिक इकाइयों से निकलने वाला धुँआ तथा रसायन।
ii) आणविक संयत्रों से निकलने वाली गैसें तथा धूल-कण।
iii) जंगलों में पेड़ पौधें के जलने से, कोयले के जलने से तथा तेल शोधन कारखानों आदि से निकलने वाला धूआँ।
iv) घरेलु कामो में विधुत उपकरणों का इस्तेमाल, जैसे – Refrigerator, Air Conditioner आदि।
v) जंगलो की कटाई

Air Pollution Effects in Hindi | वायु प्रदूषण के दुष्टप्रभाव

i) वायु में मौजूद रसायनिक तत्व ओजोन स्तर को प्रभावित करता है, जिससे जीव-जन्तु में त्वचा संबंधित बीमारी होती है |
ii) पर्यावरण में तापमान का वृधि होना वायु प्रदुषण का मुख्य कारण है |
iii) वायु प्रदुषण के कारण मनुष्य में विभिन्न प्रकार के बीमारी का उत्पन्न होना जैसे दमा, सर्दी-खाँसी, आँख संबंधित बीमारी, श्रवण शक्ति का कमजोर होना एवं त्वचा रोग आदि |
iv) वायु प्रदुषण के कारण acid rain का खतरा ज्यादा रहता है |< v) वायु प्रदूषण से सर्दियों में कोहरा छाया रहता है, जिसका कारण धूएँ तथा मिट्टी के कणों का कोहरे में मिला होना है। इससे प्राकृतिक दृश्यता में कमी आती है तथा आँखों में जलन होती है और साँस लेने में कठिनाई होती है।

Air Pollution Solution in Hindi | वायु प्रदूषण के समाधान

i) वायु प्रदुषण के रोकथाम के लिए वृक्षारोपण सबसे अहम योगदान है |
ii) घरेलु कार्यो में जीवाश्म ईंधन (Fossil Fuel) के स्थान पर जैव ईंधन (Bio Fuel) का इस्तेमाल करे |
iii) यातायात में वाहनों का इस्तेमाल कम करे |
iv) कारखानों का निर्माण ऐसा जगह करे जहा जनसंख्या कम हो और आस पास पेड़ पौधे अधिक मात्रा में हो,

वायु प्रदूषण के बारे में अधिक जानने के लिए यह देखे –वायु प्रदूषण : निबंध, प्रकार, कारण, दुष्टप्रभाव , समाधान और रोकथाम के उपाय

Land Pollution : Causes, Effects and Solution in Hindi

भूमि के भौतिक, रासायनिक या जैविक गुणों में कोई ऐसा अवांछनीय परिवर्तन जिसका प्रभाव मानव तथा अन्य जीवों पर पड़े या जिससे भूमि की गुणवत्त तथा उपयोगित नष्ट हो, ‘भूमि प्रदूषण’ कहलाता है। इसके अन्तर्गत घरों के कूड़ा-करकट के अन्तर्गत झाड़न-बुहारन से निकली धूल, रद्दी, काँच की शीशीयाँ, पालीथीन की थैलियाँ, प्लास्टिक के डिब्बे, अधजली लकड़ी, चूल्हे की राख, बुझे हुए, अंगारे आदि शामिल हैं।

Land Pollution Solution in Hindi | भूमि प्रदूषण के कारण

i) कृषि में उर्वरकों, रसायनों तथा कीटनाशकों का अधिक प्रयोग।
ii) औद्योगिक इकाईयों, खानों तथा खादानों द्वारा निकले ठोस कचरे का विसर्जन।
iii) भवनों, सड़कों आदि के निर्माण में ठोस कचरे का विसर्जन।
iv) प्लास्टिक की थैलियों का अधिक उपयोग, जो जमीन में दबकर नहीं गलती।
v) घरों, होटलों और औद्योगिक इकाईयों द्वारा निकलने वाले अवशिष्ट पदार्थों का निपटान, जिसमें प्लास्टिक, कपड़े, लकड़ी, धातु, काँच, सेरामिक, सीमेंट आदि सम्मिलित हैं।

Land Pollution Effects in Hindi | भूमि प्रदूषण के दुष्टप्रभाव

i) कृषि योग्य भूमि की कमी होना।
ii) जल तथा वायु प्रदूषण में वृद्धि
iii) भूस्खलन से होने वाली हानियाँ
iv) भूमिगत जल पर बुरा प्रभाव पड़ता है |

Land Pollution Solution in Hindi | भूमि प्रदूषण के समाधान

i) कृषि में रासायनिक उर्वरक के स्थान पर जैविक उर्वरक का इस्तेमाल करे |
ii) कारखानों द्वारा निकलने वाले दूषित प्रदार्थ को जहा तहा न फेके |
iii) प्लास्टिक से बने थैलियो का कम इस्तेमाल करे |
iv) वृक्षारोपण करे
v) भूमिगत जल का उपयोग कम से कम करे

Noise Pollution : Causes, Effects and Solution in Hindi

ध्वनि प्रदूषण या अत्यधिक शोर किसी भी प्रकार के अनुपयोगी तथा असहनीय ध्वनियों को कहते हैं, जिससे मानव और जीव जन्तुओं को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

Noise Pollution Solution in Hindi | ध्वनि प्रदूषण के कारण

i) सडको पर दौड़ते हुए वाहन ,ट्रेन ,वायु यातायात अन्य स्वचलित वाहनों की ध्वनि तथा हॉर्न की आवाज
ii) वैवाहिक समारोहों , त्योहारों , मेलो और उत्सवो में अनियंत्रित आतिशबाजी , मैच या चुनाव की जीत में होने वाली आतिशबाजी
iii) Heavy machine से निकलने वाली आवाज
iv) loud speaker से निकलने वाली आवाज

Noise Pollution Solution in Hindi | ध्वनि प्रदूषण के दुष्टप्रभाव

i) सुनने की शक्ति का क्षीण होना
ii) सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, High B P के साथ अन्य मनोवैज्ञानिक बीमारियों की समस्या
iii) वार्तालाप में बाधा ,खीझ ,चिडचिडाहट उत्पन्न होना
iv) कार्यक्षमता में कमी , तनाव बढना, अनिद्रा ,उच्च रक्तचाप ,दृष्टिदोष ,चक्कर आना ,अधिक पसीना आना ,थकावट आदि जैसी समस्या

जरुरी लेख
ब्लड प्रेशर के बारे में विश्तार से जाने
ब्लड प्रेशर घर पर चेक कैसे करे?
हाई ब्लड प्रेशर के कारण, लक्षण,घरेलू दवा और इलाज
डायबिटीज,मधुमेह,ब्लड प्रेशर का घरेलु इलाज

Noise Pollution Solution in Hindi | ध्वनि प्रदूषण के समाधान

i) मशीन एवं उपकरणों से उत्पन्न शोर पर नियन्त्रण
ii) ऐसे उपकरण का इस्तेमाल करे जो शोर कम करता हो |
iii) शहरो में सड़क के किनारे ध्वनि रोधक का इस्तेमाल करे |
iv) ध्वनि अवशोषक पदार्थ का , मकान एवं अस्पताल निर्माण में उपयोग करना

कुल मिलाकर व्यापक प्रदुषण की समस्या सम्पूर्ण विश्व के लिए चिंता का विषय है | इस संकट का समाधान किसी एक राष्ट्र या एक व्यक्ति के प्रयास से नहीं हो सकता बल्कि इसके लिए तो वैश्विक प्रयासों की सतत आवश्यकता है |

निवदेन – Friends अगर आपको ‘ प्रदूषण पर विस्तृत निबंध ‘ पर यह लेख अच्छा लगा हो तो हमारे Facebook Pageको जरुर like करे और इस post को share करे |

Reference From
hindiremedy.com

2 comments

  • Swathi

    Good
    It will be help full for our students
    But it really hard to read this difficult sentences
    It would be better to make it easy
    Friends u can reply for this comment

    • Healthnuskhe

      Thank you for notifying us of your problem,it’s important for us to know.We would like to request you, kindly share your opinion how to improve this article.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *