liver home remedies in hindi | जिगर रोगो का घरेलू उपचार


“Liver home remedies in hindi” हमे प्रकृति ने बहुत सी ऐसी अनमोल चीजे दी है जिसके इस्तेमाल से हम किसी भी बीमारी का इलाज आसानी से कर सकते है बसर्ते इस उपचार का नियमबद्ध तरीके से इस्तेमाल किया जाए । जिगर का घरेलू इलाज , जिगर का देशी इलाज या जिगर का प्रकृतिक इलाज अंग्रेजी में Home remedies ऐसे कई नामो की संज्ञा दी गयी है । इस उपचार की सबसे बड़ी खासियत यह है की इसका किसी भी प्रकार का कोई side effect नहीं है । इस इलाज की प्रक्रिया सबके लिए सामान्य है । और यह चिकित्शा पद्धति ऐसी घरेलू चीजो से संभव है जो आसानी’से हमारे घरो में ,रसोई में मिल जाती है । आज हम कुछ ऐसे ही Home Remedies for Liver लिवर । जिगर रोग के लिए घरेलू उपचार के बारे में जानेंगे ।



Liver Home Remedies in Hindi | लिवर रोग के लिए घरेलू उपचार

1.मिल्क थीस्ल :- यह जड़ी-बूटी लिवर सम्बन्धी विकार जैसे वायरल हैपेटाइटिस, सिरोसिस आदि में बहुत ही लाभकारी है यह विषाकत रसायनों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करती है। इसका सेवन और किसी भी चिकित्सक के देख रेख में करे

2. सेब का सिरका :-liver home remedies के लिए, सेब का सिरका, जिगर में मौजूद विषैले पदार्थों को बाहर निकालने तथा फैटी लिवर में काफी सहायक होता है । इसके सेवन की विधि एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका मिलाएं इसके साथ आप शहद भी मिक्स कर सकते है और इस मिश्रण को दिन में दो से तीन बार उपयोग में ला सकते है ।

3. कुकरौंधा :- कुकरौंधा का जड़ जिगर सम्बन्धी रोग में काफी चमकदारी औषधि है । कुकरौंधा के जड़ का पाउडर बड़ी आसानी से आपको बाजार में मिल जाएगा । अपने सहूलित के अनुसार इसको चाय में डालकर उपयोग में ला सकते ही अन्यथा जड़ को पानी में उबाल कर, पानी को छान कर पी सकते हैं।

4. मुलेठी :- liver home remedies के लिए, आयुर्वेदिक औषधियों में मुलेठी का उपयोग जिगर की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह जिगर सम्बन्धी विकारो में काफी असरदार औषधि है । मुलेठी की जड़ के चूर्ण को उबलते हुए पानी में ड़ालें। इसे कुछ मिनटों के लिए रहने दें तथा ठंड़ा होने पर छान लें। इस पानी को दिन में एक या दो बार पिएं।

5. हल्दी :- हल्दी हमारे घर में आसानी से पाया जाने वाला पदार्थ है जिसमे एंटीऑक्सीडेंट और एंटीसेप्टिक गुण पाया जाता है जो जिगर से संबधित रोग में काफी फायदेमंद होता है । हल्दी की रोगनिरोधन क्षमता हैपेटाइटिस बी व सी के संक्रमण में काफी लाभप्रद है ।
वैसे तो हम प्रतिदिन सब्जी,दाल और कई माध्यम से इसका सेवन तो करते ही है । इसके अलावे हम दूध और शहद के साथ भी इसका सेवन कर सकते है । रात को सोने से पहले एक गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पिएं। हर रोज़ एक चम्मच शहद में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर ले यह लिवर से होने वाले संक्रमण के खतरा को काफी हद तक संतुलित करने में मदद करता है ।




6. लहसुन :- liver home remedies के लिए, लहसुन हमारे किचन में पाया जाने वाला एक सस्ता और सुलभ पदार्थ है जो की लीवर में एंजाइम को सक्रिय करने में सहायक होता है । लहसुन में प्रचुर मात्रा में ऐलिसिन और सेलेनियम पाया जाता है जो की लीवर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकलवाने में मदद करते हैं।
अगर हम प्रतिदिन सुबह लहसुन की 2-4 कली सुबह खाली पेट ले तो जिगर संबंधी समस्याए जैसे कब्ज ,गैस में भी काफी आराम मिलता है ।

7. नींबू ,आँवला या मौसमी :- इन सभी चीजो में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है और इसका सेवन लिवर की कार्यक्षमता को सुदृढ़ करने में काफी उपयोगी होता है साथ ही साथ लीवर को क्षतिग्रस्‍त होने से बचाता है। साथ ही यह लीवर में कार्सिनोजिन को इकठ्ठा होने से भी रोकता है । कार्सिनोजिन एक हानिकारक तत्त्व है जो की शरीर के अंगों में कैंसर रोग का कारक है ।

8. जड़ युकत सब्जिया एवं फल :-liver home remedies के लिए, जड़ युकत सब्जिया एवं फलो से अभिप्राय यह है की जो जमीन के अंदर उगते हो ऐसे फलों और सब्जियों में कैरोटीन, विटामिन सी, फ्लेवोनॉइड जैसे न्यूट्रिशन पाए जाते हैं। इससे इम्यूनिटी पावर बढ़ती है जो की जिगर के लिए काफी लाभप्रद है । ऐसे ही कुछ फल और सब्जी जैसे, चुकंदर, गाजर, आलू आदि लीवर की कोशिकाओं को मजबूत करती हैं और लीवर को ठीक से कार्य करने की क्षमता प्रदान करती है।

9. यलो/ऑरेंज/पीले कलर के फल और सब्जी :- ऐसी फल और सब्जिया जिनका रंग देखने में पिला लगे यलो कलर के फलों और सब्जियों की श्रेणी में आता है में अल्फा कैरोटीन, बीटा कैरोटीन, विटामिन सी, बायो फ्लेवोनॉइड जैसे न्यूट्रिशन पाए जाते हैं जो की लिवर की कार्यक्षमता को सुदृढ़ करने में काफी उपयोगी होता है । संतरा, नींबू, आम, अनानास, नाशपाती, पपीता, एप्रीकोट, नारंगी, गाजर, पीले टमाटर, पीली शिमला मिर्च, कार्न, सरसों, कद्दू, खरबूजा जैसे आहार को हम अपने खान पान में शामिल कर सकते है ।

10. साबुत या खड़ा अनाज :- साबुत या खड़ा अनाज में विटामिन बी कॉमप्‍लेक्‍स प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो कि फैटी लिवर जैसी समस्या को बैलेंस करने में काफी मदद करता है ।

ब्राउन देशी चना , सोयाबीन के बीज ,कच्चा खड़ा मूंग आदि को अगर हम अंकुरित करके खाए तो यह लिवर के साथ शरीर को भी काफी ऊर्जा देती है इसके आलवा हम अपने खान-पान में ब्राउन राइस, मल्‍टी ग्रेन वाला आटा और सोया आटा को इस्तेमाल कर सकते है जो की लीवर के लिये बहुत फायदेमंद होते हैं।

11. ब्रॉकली :- ब्रॉकली फाइबर्स और विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत हैं इसमें ग्लूकोसिनोलेट्स होते हैं जो कि लीवर में इंजाइम को पेदा करते हैं, इस इंजाइम से लीवर के अंदर की सारी गंदगी बाहर निकल जाती है।ग्लूकोसिनोलेट्स में कैंसर से लड़ने के प्राकृतिक तत्व पाये जाते है जो लिवर कैंसर की खतरा को काम कर देता है

12. रुचिरा/अखरोट:- अखरोट यानी वालनट (Walnuts) अस्‍फोटी बीज वाले पौधे का फल है इसमें मौजूदा पोषक तत्व खासकर ग्लुटथायन एंटीऑक्सिडेंट जिगर में जमा हुए विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है । अगर आप अपने जिगर को बीमारियों के आक्रमण से बचाना चाहते हैं तो अपने आहार में अखरोट को शामिल करें। अखरोट ऊर्जा का बेहतर स्रोत है साथ ही इसमें शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्व, मिनरल्स, एंटीआक्सीडैंट्स और विटामिन्स भरपूर मात्रा में उपलब्ध है । इसका सेवन अगर दूध के साथ करे तो काफी लाभप्रद होगा

13. एवाकाडो:- यह एक सोडियम और कोलेस्ट्रॉल रहित फल है। इसमें ग्लूटाथोनीन और मोनोसैचुरेटेड फैट दोनों मौजूद होती है , जो कि लीवर से विषाक्त पदार्थों की सफाई के साथ साथ नयी कोशिकाओं और ऊतकों के निर्माण करने में सहायता करता है ।

14. अलसी या तीसी :-यह समशीतोष्ण प्रदेशों का पौधा है। इसके बीजों में पाय्तोकोनस्टिट्यूएंट तत्व प्रचूर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त में अनचाहे हार्मोन को बढ़ने से रोकता है । अनचाहे हार्मोन जिगर के तनाव का मुख्य कारण है ।

15 ग्रीन टी :- ग्रीन टी कैमेलिया साइनेन्सिस नामक पौधे की पत्तियों से बनायी जाती है । ग्रीन टी में उच्च मात्रा में कैटीकाइन होता है जो जिगर की कार्यशीलता में मदद करता है। इसका सेवन हम चाय के साथ कर सकते है

यहाँ पर दिए गए सभी सलाह और टिप्स उपयोगी है । उम्मीद है की आप liver home remedies in hindi | जिगर रोगो का घरेलू उपचार से अवस्य लाभावनित होगे । समस्या गंभीर होने पर किसी उचित डॉक्टर की सलाह अवस्य ले ।




हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

संबधित लिंक
1. लिवर और उसकी कार्यप्रणाली
2. लिवर से जुडी बीमारियाँ
3. लिवर | जिगर खराब होने के लक्षण.
4. लिवर ख़राब होने के कारण
5. लिवर | जिगर की देखभाल

गर्भधारण से जुड़े लेख

संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भावस्था के दौरान सोने का सही तरीका
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए

शीघ्रपतन से जुड़े लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.