Kanya Pujan Vidhi and Importance in Hindi | कन्या पूजन विधि क्यों और कैसे करे


Kanya Pujan Vidhi and Importance in Hindi, नवरात्र पर्व (Navratri Festival) के दौरान कन्या पूजन का बडा महत्व है । लेकिन हम मे से बहुत कम लोगो को ही कन्या पूजन से जुड़ी विशेष बाते पता होगी जैसे की कन्या पूजन विधि क्यों करते हैं ? कन्या पूजन विधि का लाभ और महत्व क्या हैं ? कन्या पूजन विधि के दौरान क्या सावधानियॉ रखने की खास आवश्यकता होती हैं और सबसे मत्वपूर्ण चीज की कन्या पूजन की विधि क्या हैं ? आइये इन सारे बातो को एक-एक करके विश्तार पूर्वक जाने

Kanya Pujan Vidhi and Importance in Hindi




ऐसी मान्यता है कि जप और दान से देवी इतनी खुश नहीं होतीं, जितनी कन्या पूजन से । शास्त्रों के अनुसार एक कन्या की पूजा से ऐश्वर्य, दो की पूजा से भोग और मोक्ष, तीन की अर्चना से धर्म, अर्थ व काम, चार की पूजा से राज्यपद, पांच की पूजा से विद्या, छ: की पूजा से छ: प्रकार की सिद्धि, सात की पूजा से राज्य, आठ की पूजा से संपदा और नौ की पूजा से पृथ्वी के प्रभुत्व की प्राप्ति होती है।

यह भी देखे
रक्षा बंधन पूजन विधि, शुभ मुहूर्त – 2017

loading…

नवरात्रि में Kanya Pujan Vidhi क्यों करते हैं ?

देवी पुराण के अनुसार, इन्द्र ने जब ब्रह्मा जी भगवती दुर्गा को प्रसन्न करने की विधि पूछी तो उन्होंने सर्वोत्तम विधि के रूप में कन्या पूजन ही बताया और कहा कि माता दुर्गा का जप, ध्यान, पूजन और हवन से भी उतनी प्रसन्न नहीं होती जितना सिर्फ कन्या पूजन से हो जाती हैं |
दूसरी मान्यता है कि माता के भक्त पंडित श्रीधर के कोई संतान नहीं थी। उन्होंने नवरात्र के बाद नौ कन्याओं को पूजन के लिए घर पर बुलवाया। मां दुर्गा उन्हीं कन्याओं के बीच बालरूप धारण कर बैठ गई। बालरूप में आईं मां श्रीधर से बोलीं सभी को भंडारे का निमंत्रण दे दो। श्रीधर से बालरूप कन्या की बात मानकर आसपास के गांवों में भंडारे का निमंत्रण दे दिया। इसके बाद उन्हें संतान सुख मिला।




नवरात्रि में Kanya Pujan Vidhi कैसे करे ?

सामान्यतः तीन प्रकार से कन्या पूजन का विधान शास्त्रोक्त है –
1)प्रथम प्रकार- प्रतिदिन एक कन्या का पूजन अर्थात नौ दिनों में नौ कन्याओं का पूजन – इस पूजन को करने से कल्याण और सौभाग्य प्राप्ति होती है |
2)दूसरा प्रकार- प्रतिदिन दिवस के अनुसार संख्या अर्थात प्रथम दिन एक, द्वितीय दिन दो, तृतीया – तीन नवमी – नौ कन्या (बढ़ते क्रम में ) अर्थात नौ दिनों में 45 कन्याओ का पूजन – इस प्रकार से पूजन करने पर सुख, सुविधा और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है |
3) तीसरा प्रकार – नौ कन्या का नौ दिनों तक पूजन अर्थात नौ दिनों में नौ X नौ = 81 कन्याओं का पूजन– इस प्रकार से पूजन करने पर पद, प्रतिष्ठा और भूमि की प्राप्ति होती है |

यह भी पढ़े

नवरात्र व्रत, कलश स्थापना और पूजा विधि
चैत्र नवरात्रि पूजाविधि, शुभ मुहूर्त – 2017
नवरात्री व्रत में फ़िट रहने के लिए ये सब खाएँ
नौ दुर्गा के रूप, मन्त्र और पूजा विधि

कन्याओ का उम्र व अवस्था ?

शास्त्रों के अनुसार कन्या की अवस्था….
एक वर्ष की कन्या का पूजन नहीं करना चाहिए
दो वर्षकुमारी –  दुःख-दरिद्रता और शत्रु नाश
तीन वर्षत्रिमूर्ति – धर्म-काम की प्राप्ति, आयु वृद्धि
चार वर्षकल्याणी – धन-धान्य और सुखों की वृद्धि
पांच वर्षरोहिणी – आरोग्यता-सम्मान प्राप्ति
छह वर्षकालिका – विद्या व प्रतियोगिता में सफलता
सात वर्षचण्डिका – मुकदमा और शत्रु पर विजय
आठ वर्षशाम्भवी – राज्य व राजकीय सुख प्राप्ति
नौ वर्षदुर्गा – शत्रुओं पर विजय, दुर्भाग्य नाश
दस वर्षसुभद्रा – सौभाग्य व मनोकामना पूर्ति

किस दिन करें Kanya Pujan Vidhi?

वैसे तो प्रायः लोग सप्‍तमी से कन्‍या पूजन शुरू कर देते हैं लेकिन जो लोग पूरे नौ दिन का व्रत करते हैं वह तिथि के अनुसार अथवा नवमी और दशमी को कन्‍या पूजन करते हैं । शास्‍त्रों के अनुसार कन्‍या पूजन के लिए दुर्गाष्‍टमी के दिन को सबसे ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण और शुभ माना गया है.

नवरात्रि में Kanya Pujan Vidhi क्या हैं ?

सर्वप्रथम व्यक्ति को प्रातः स्नान करना चाहिए। उसके पश्चात् कन्याओं के लिए भोजन अर्थात पूरी, हलवा, खीर, चने आदि को तैयार कर लेना चाहिए । कन्याओं के पूजन के साथ बटुक पूजन का भी महत्त्व है, दो बालकों को भी साथ में पूजना चाहिए एक गणेश जी के निमित्य और दूसरे बटुक भैरो के निमित्य कहीं कहीं पर तीन बटुकों का भी पूजन लोग करते हैं और तीसरा स्वरुप हनुमान जी का मानते हैं |
एक-दो-तीन कितने भी बटुक पूजें पर कन्या पूजन बिना बटुक पूजन के अधूरी होती है |
कन्याओं को माता का स्वरुप समझ कर पूरी भक्ति-भाव से कन्याओं के हाथ पैर धुला कर उनको साफ़ सुथरे स्थान पर बैठाएं | ऊँ कुमार्यै नम: मंत्र से कन्याओं का पंचोपचार पूजन करें । सभी कन्याओं के मस्तक पर तिलक लगाएं, लाल पुष्प चढ़ाएं, माला पहनाएं, चुनरी अर्पित करें तत्पश्चात भोजन करवाएं | भोजन में मीठा अवश्य हो, इस बात का ध्यान रखें।
भोजन के बाद कन्याओं के पैर धुलाकर विधिवत कुंकुम से तिलक करें तथा दक्षिणा देकर हाथ में पुष्प लेकर यह प्रार्थना करें-

मंत्राक्षरमयीं लक्ष्मीं मातृणां रूपधारिणीम्।
नवदुर्गात्मिकां साक्षात् कन्यामावाहयाम्यहम्।।
जगत्पूज्ये जगद्वन्द्ये सर्वशक्तिस्वरुपिणि।
पूजां गृहाण कौमारि जगन्मातर्नमोस्तु ते।।

तब वह पुष्प कुमारी के चरणों में अर्पण कर उन्हें ससम्मान विदा करें।

नवरात्रि में कन्या पूजन विधि में सावधानियॉ ?

कन्याओ की आयु दो वर्ष से कम न हो और दस वर्ष से ज्यादा भी न हो।
एक वर्ष या उससे छोटी कन्याओं की पूजा नहीं करनी चाहिए।
कन्या पूजन में ध्यान रखें कि कोई कन्या हीनांगी, अधिकांगी, अंधी, काणी, कूबड़ी, रोगी अथवा दुष्ट स्वाभाव की नहीं होनी चाहिए |
एक-दो-तीन कितने भी बटुक पूजें पर कन्या पूजन बिना बटुक पूजन के न करे |

त्योहारो से जुड़े अन्य लेख
रुद्राभिषेक की पूर्ण विधि,लाभ
दिवाली पूजन विधि,सामग्री,शुभ मुहूर्त
धनतेरस पूजन विधि और शुभ मुहूर्त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.