Impotency causes, symptoms, treatment in Hindi | नपुंसकता (नामर्दी) का इलाज

Impotency | Erectile Dysfunction in Hindi. स्तंभन दोष जिसे आम बोल-चाल के भाषा में इरेक्टाइल डिसफंक्शन, मर्दाना कमजोरी , नामर्दी अथवा नपुंसकता के नाम से जानते हैं, आज के बदलते परिवेश में नामर्दी अथवा नपुंसकता किसी से अपरचित अथवा छुपा हुआ नहीं हैं | लेकिन हम इस लेख के माध्यम से Erectile Dysfunction से जुड़े हर एक सवाल के बारे में विस्तार से जानेंगे जैसे की ……..

★ नामर्दी अथवा नपुंसकता क्या हैं ?
★ नामर्दी अथवा नपुंसकता के कारण
★ नामर्दी अथवा नपुंसकता के लक्षण
★ नामर्दी अथवा नपुंसकता के घरेलू दवा और इलाज
★ नामर्दी अथवा नपुंसकता के लिए जरुरी योग आसन और व्यायाम

Impotency causes, symptoms, treatment in Hindi

पुरुष intercourse यानि सेक्स चक्र चार चरण होते हैं। कामेच्छा, इंद्रिय में पर्याप्त तनाव, स्त्री जननांग में प्रवेश और चरम सीमा अगर इन चार किन्ही कारणों से अगर पुरुष अपने महिला साथी को सहवास के दौरान पूर्ण संतुष्टि नहीं दे पाता हैं तो आम तौर पर इस समस्या को लोग पुरुषों में Erectile Dysfunction से जोड़ कर देखने लगते हैं जो की बिल्कुल ही गलत हैं | साधारणतः ऐसी समस्या मानसिक तनाव, कामेच्छा की कमी तो कई बार नर्वस सिस्टम की गड़बड़ी की वजह से उत्तेजना में कमी आ सकती है।
साधारणतः पुरुषों में 60 साल के बाद और महिलाओं में 45 साल के बाद हॉर्मोन की कमी होने लगती है, जिससे उनके उत्तेजित होने में समय लगता है या फिर वे उत्तेजित ही नहीं हो पाते हैं।

Impotency | Erectile Dysfunction in Hindi | नामर्दी अथवा नपुंसकता क्या हैं?

मर्दाना कमजोरी , नामर्दी अथवा नपुंसकता पुरुषों में पाया जाने वाला एक यौन दोष (Men’s Sexual Problem) हैं , जिससे प्रभावित पुरुषों में कुछ खास समस्या देखनो को मिलतीं हैं जैसे की
★ लिंग (Men’s Penis) में उत्तेजना न आना,
★ उत्तेजना आने के बाद जल्दी शांत हो जाना
★ वीर्य जल्दी स्खलित हो जाना
★ कामेच्छा की कमी
★ संभोग करने के दौरान या करने से पहले घबराहट होना

“जिन पुरुषों में सेक्स करने की इच्छा के लिए उत्तेजना नहीं होती है वो पूरी तरह नपुंसक होते हैं। लेकिन जो पुरुष उत्तेजना के बाद किसी घबराहट या किसी अन्य वजह से जल्दी स्खलित हो जाते हैं, उन्हें आंशिक नपुंसक कहते हैं।”

Impotency | Erectile Dysfunction causes in Hindi (नामर्दी अथवा नपुंसकता के कारण)

मर्दाना कमजोरी , नामर्दी अथवा नपुंसकता के दो अहम कारण होते हैं – शारीरिक और मानसिक।
शारीरिक नपुंसकता ज्यादातर जननांग में ब्लड सप्लाई की कमी की वजह से, नर्व्स की गड़बड़ी से या हॉर्मोनल असंतुलन की वजह से आ सकती है।
वही मानसिक नपुंसकता दिमाग से जुड़ी रहती है, जिसमें भय, चिंता और हीन-भावना मुख्य वजह होती हैं।
इसके अलावा मर्दाना कमजोरी, नामर्दी अथवा नपुंसकता के कई और कारण भी हो सकते हैं, जो की इस प्रकार हैं

Erectile Dysfunction reasons in Hindi | मर्दाना कमजोरी के अन्य कारण

1. हाई ब्लड प्रेशर,पाचन तंत्र संबंधी समस्या,हार्मोंनल बदलाव डायबिटीज़ और हृदय रोग जैसी बीमारिया नामर्दी अथवा नपुंसकता के कारण हो सकते है।
2. हस्तमैथुन की अधिकता और स्वप्न दोष का इलाज न करने से भी शुक्राणुओं की संख्या घट सकती है और Impotency का शिकार हो सकते हैं
3. जननांग पर लैपटॉप रखकर इस्तेमाल करने से, पैंट के पॉकेट में मोबाइल फोन रखने से इम्पोटेंस का शिकार हो सकते हैं।
4. स्टेरॉयड लेने वाले व्यक्ति भी इम्पोटेंट का शिकार हो सकते है। क्यूंकि लगातार इसके प्रयोग से वीर्य और शुक्राणु बनना बंद हो सकते हैं। अक्सर वर्कआउट करने वाले और खिलाड़ी अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए स्टेरॉयड लेते हैं, जो कि सही नहीं है।
5. दुर्घटना में किसी अंदरूनी नस के जोखिम होने अथवा मेरुदंड में चोट लगने से भी इम्पोटेंस की समस्या हो सकती है।
6. धूम्रपान,शराब के सेवन

Impotency | Erectile Dysfunction Symptoms & Signs in Hindi | नामर्दी अथवा नपुंसकता के लक्षण

1. नपुंसकता होने पर पुरुष के लिंग में कठोरता या तो आती नहीं और अगर आती भी है तो बहुत ही जल्दी शांत हो जाती है।
2. संभोग के समय जल्दी स्खलित हो जाना नामर्दी अथवा नपुंसकता के लक्षण हैं।
3. जो पुरुष महिलाओं के पास जाने से भी घबराने लगते हैं अथवा जो पुरुष सेक्स क्रिया करने में रूचि नहीं रखते और जिनमें उत्तेजना नहीं होती वे पूर्ण नपुंसक होते हैं-
जबकि जो पुरुष उत्तेजित तो होते हैं लेकिन घबराहट या किसी अन्य वजह से जल्दी शांत हो जाते हैं उन्हें आंशिक नपुंसक कहा जाता है
4.अश्लील चीजों को देखने या सोचने मात्र से ही वीर्यपात और वीर्य स्खलित हो जाना या नाइटफ़ॉल अधिक होना नपुंसकता की निशानी है।
5. पुरुष का लिंग और अंडकोष सामान्य से छोटा हो जाता है जिससे पुरुष ठीक तरह से संभोग करने में असमर्थ होता है।

Impotency | Erectile Dysfunction Treatment in Hindi (नामर्दी अथवा नपुंसकता का इलाज )

शारीरिक नपुंसकता के कई तरह के इलाज मौजूद हैं। ये तमाम इलाज इस पर निर्भर करते हैं कि बीमारी की जड़ क्या है और नपुंसकता कितनी ज्यादा या कम है। आज के जमाने में किसी भी तरह की नपुंसकता हो, उसका इलाज सौ फीसदी मुमकिन है । नामर्दी अथवा नपुंसकता का उपचार के तरीके निम्नलिखित हैं

1. (वियाग्रा) सिल्डेनाफिल टैस्टोस्टरोन ड्रगस :-सिल्डेनाफिल 15, 50 और 100 मि.ग्रा. की मौखिक गोलियों में उपलब्ध है। सम्भोग प्रारम्भ करने के एक घन्टा पहले इसे लेना चाहिए। श्रेष्ठ परिणाम के लिए इसे खाली पेट लेना चाहिए क्योंकि खाने के बाद, यदि गरिष्ठ भोजन किया जाए तो इसका प्रभाव और स्राव घट सकता है।

2. मूत्रनली या लिंग में दवा का इंजैक्शन लगाये :- लिंग के कड़ेपन के लिए लिंग में सीधे दवाइयां इंजेक्शन द्वारा दी जा सकती है अथवा लिंग को खड़ा करने के लिए मूत्र नली में दवा की गोली भी डाली जा सकती है। हालांकि ऐसे उपचार प्रभावशाली होते तो हैं पर उनका बहुत उपयोग नहीं किया जाता क्योंकि वे बहुत पीड़ादायक होते हैं

3. लिंग को खड़ा करने वाले उपकरणों का प्रयोग करें :- मशीनी वैक्युम यन्त्र का उपयोग करके लिंग के आसपास खालीपन का दबाव बनाया जाता है जिस से वह रक्त को लिंग में खींचता है, उसे बड़ा करता है और खड़ा करता है जिससे लिंग में कड़ापन आ जाता है।

4. मनोचिकित्सा :-विशेषज्ञ नपुंसकता का उपचार मनोविज्ञान आधारित तकनीक से करते हैं जिससे व्यक्ति की सम्भोग सम्बन्धी परेशानियां दूर हो जाती है। रोगी की साथी इस तकनीक को क्रियान्वित करने में मदद दे सकती है जिसमें अंतरंगता का विकास और उत्तेजक प्रेरणा भी शामिल है। जब शारीरिक नपुंसकता का उपचार होता है उस समय भी ऐसी तकनीकें चिन्ता को दूर करने में मदद देती हैं।

Impotency | Erectile Dysfunction Home remedies in Hindi (नामर्दी अथवा नपुंसकता का घरलू इलाज )

1. वीर्य का शीघ्र पतन हो रहा हो तो, आधा चम्मच सफेद प्याज़ का रस, शहद और पिसी हुई मिसरी मिलाकर दिन में 2 बार खाएँ। एक महीने का प्रयोग नपुंसकता का रामबाण इलाज साबित हो सकता हैं ।

2. जामुन की गुठली पीस कर इसका पाउडर बना ले और गरम दूध के साथ हर रोज ले। इस उपाय से स्पर्म की संख्या बढ़ने लगेती है और कामेच्छा की कमी को दूर करता हैं ।

3. वीर्य दोष यानि आपको धातु क्षिणता हो तो आधा चम्मच हल्दी पाउडर एक चम्मच शहद में मिला कर सुबह सुबह खाली पेट सेवन करते रहने से संभोग शक्ति बढ़ती है।

4. मेवों के सेवन से भी उत्‍तेजना की समस्‍या का इलाज किया जा सकता है. बादाम, खजूर, किश्‍मिश और पिस्‍ता का रोजाना सीमित मात्रा में सेवन करने से सेक्‍स समस्‍याओं से निजात मिल सकती है.

5. 2 ग्राम पिसा इलायची दाना, 1 ग्राम पिसी जावित्री, 5 भिगोकर पीसी हुई बादाम और 10 ग्राम पिसी मिसरी को मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को 2 चम्मच मक्खन के साथ सुबह खाएँ। इस उपचार से स्पर्म काउंट बढ़ता है, जिससे नपुंसकता ख़त्म हो जाती है।

Impotency Ayurvedic remedies in Hindi (नामर्दी अथवा नपुंसकता का आयुर्वेदिक दवा )

1. अश्वगंधा :- अश्वगंधा का चूरन, असगंधा और बिदारीकंड को 100-100 ग्राम मात्रा में बारीक़ पीसकर चूरन तैयार करें। रोज़ सुबह शाम दूध के साथ आधा चम्मच यह चूरन लेने से वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती है और मर्दाना कमज़ोरी दूर होती है।

2. आंवला :- मर्दाना कमज़ोरी के इलाज में आंवला का सएवन बहुत फ़ायदेमंद है। 2 चम्मच आंवले के रस में 1 चम्मच आंवला चूरन और 1 चम्मच शुद्ध शहद मिलाकर सुबह शाम 2 बार खाएँ। इस उपाय से यौन शक्ति बढ़ती है।

3. जायफल :- 15 ग्राम जायफल, 5 ग्राम अकरकरा, 20 ग्रामा हिंगुल भस्म और 10 ग्राम केसर मिलाकर पीस लें। अब इस मिश्रण में शहद मिलाकर घोट लें। फिर चने के दाने के बराबर गोलियाँ बना लें। रोज़ सोने से पहले 2 गोलियाँ दूध के साथ खाएँ। इस आयुर्वेदिक उपाय से शिशन का ढीलापन ख़त्म हो जाएगा और नामर्दी से छुटकारा मिलेगा।

4. त्रिफला :- 1 चम्मच त्रिफला चूरन रात को सोने से पहले 5 मुन्नक्कों के साथ खाएँ और ठंडा पानी पी लें। ये चूरन पेट की बीमारियों, स्वप्न दोष, शीघ्र पतन और नपुंसकता को दूर करता है।

5. इमली :- आधा किलो इमली के बीज को तोड़कर 3 तीन दिन पानी में भिगोकर रखें। फूले हुए बीजों से छिलके हटा दें और सफेद भाग को खरल में डालकर पीस लें। अब इसमें आधा किलो मिसरी मिलाकर कांच के मर्तबान में रख दें। इस मिश्रण को आधा आधा चम्मच दिन में दो बार दूध के साथ लें। इस उपाय को करने से संभोग करने की शक्ति बढ़ेगी और शीघ्र पतन की समस्या दूर होगी।

Impotency | Erectile Dysfunction Yogasan & Exercise in Hindi

नामर्दी अथवा नपुंसकता के लिए जरुरी योग आसन और व्यायाम

– वज्रोली क्रियाविधि :- वीर्य स्थिर होकर स्वप्नदोष और शीघ्रपतन छुटकारा मिलता है |

– भुजंगासन :- इससे आपको सेक्स करने के दौरान ऊर्जा मिलती है और इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या से भी राहत मिलता है।

– तितली आसन :- इस आसन को करने से जननांग सुदृढ़ होने के साथ-साथ पेल्विक (pelvic) और ग्रॉइन (groin) अंगों में लचिलापन आ जाता है। साथ ही सेक्स के प्रति रूची बढ़ने के साथ-साथ चरम आंनद का उपभोग भी कर पाते हैं।

– हलासन :- यह आसन करने से यौनांगों में उत्तेजना का संचार होता है जिसके कारण काम की इच्छा जागृत होती है। अगर किसी को नपुंसकता की समस्या है तो इस आसन के द्वारा इस समस्या से भी धीरे-धीरे राहत मिलने लगती है।

हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

शीघ्रपतन से जुड़े लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

गर्भधारण से जुड़े लेख
संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
प्रेगनेंसी के दौरान क्या खाना चाहिए
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ

3 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.