Heart Attack Prevention Tips in Hindi | 15+ हार्ट अटैक से बचने के तरीके




Heart Attack Prevention Tips in Hindi, जैसा की हम सभी जानते है सावधानी ही सुरक्षा का मूल मंत्र है । शरीर के अंगो में इंसान का दिल सबसे नाजुक अंगो में से एक है । इंसान के भावनात्मक और मानसिक तनाव का सीधा संबंध हमारे दिल से होता हैं इसलिए कई बार आम बोल चाल में एक कहावत को आप सभी ने सुन रखा होगा – ‘ दिल पे मत ले यार ! ‘
आज हम आपको कुछ Important Heart Attack Prevention Tips in Hindi बताने जा रहे हैं । हृदयघात से बचने के 10 उपाय निम्नलिखित हैं। …….

Heart Attack Prevention Tips in Hindi




1. कोलेस्ट्रोल लेवल :-
Heart Attack Prevention Tips में, सबसे अहम कोलेस्ट्रोल की भूमिका होती हैं । एक स्वस्थ हृदय के दृष्टिकोण से कोलेस्ट्रोल का लेवल 130 एमजी/ डीएल तक होना अच्छा माना जाता हैं । इसलिए कोलेस्ट्रोल युक्त खाद्य पदार्थ जैसे तेल,मक्खन, घी इत्यादि से जितना संभव हो, बचने की कोशिश करनी चाहिए ।

2. ब्लड प्रेशर :-
ब्लड प्रेशर की समस्या का मुख्य कारण अनियमित जीवन शैली और गलत खान-पान होते हैं। अगर आप हृदयघात की संभावनाओ को कम करना चाहते हैं तो ब्लड प्रेशर को 120/80 एमएमएचजी के आसपास रखना जरुरी है . क्योंकि जब ब्लड प्रेशर का लेवल 130/ 90 से ऊपर चला जाता हैं तो इन परिस्थितयो में यह आपके ब्लोकेज (अवरोध) को दुगनी रफ्तार से बढ़ावा देने में सक्रीय हो जाता हैं । ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए खाने में नमक का प्रयोग कम करें और जरुरत पड़ने पर हल्की दवाएँ ले ।

यह भी देखे

loading…

ब्लड प्रेशर से जुड़े अन्य जरुरी लेख
डायबिटीज,मधुमेह,ब्लड प्रेशर का घरेलु इलाज
ब्लड प्रेशर के कारण
ब्लड प्रेशर के 15 लक्षण
ब्लड प्रेशर के 15 प्रकार
ब्लड प्रेशर से जुड़े अहम टेस्ट

3. तनाव लेवल :-
Heart Attack Prevention Tips in hindi, जब हम ज्यादा तनाव में रहते है तो हमारा शरीर cortisol, adrenaline और noradrenaline नामक chemicals को काफी ज्यादा मात्रा में उत्सर्जित करता है जो की हमारा heart का pulse rate बढ़ा देते हैं । इसलिए जितना हो सके तनाव मुक्त रहे इससे आपको हृदय रोग को रोकने में मदद मिलेगी

4. वजन कण्ट्रोल :-
अगर आपका वजन सामान्य से अधिक है यानि की अगर आपका BMI 25 से ऊपर है तो आपको हार्ट अटैक आने की संभावना बढ़ जाती हैं। मोटापे के शिकार व्यक्ति के हृदय के ऊतकों में सूजन आ सकती है जो अंतत: हृदयाघात का कारण बन सकती है।

यह भी देखे
मोटापे के कारण और लक्षण
वज़न कम करने के तरीके

5. ब्लड शुगर लेवल :-
Heart Attack Prevention Tips in hindi, हृदयघात से बचने के लिए रक्त में फास्टिंग ब्लड शुगर 100 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए और खाने के दो घंटे बाद उसे 140 एमजी/ डीएल से नीचे होना चाहिए । डायबिटीज के मरीजों में यदि रक्तचाप नियमित बढ़ा रहे तो प्लेटलेट्स थ्रोम्बोक्सेन ए-टू नामक जैव रसायन स्रावित होने लगते हैं जिसके प्रभाव में रक्त की नली सिकुड़ जाती और प्लेटलेट्स जमकर थक्का बनाने लगते हैं। ज्यादा थक्का बनने के कारण पीड़ित को हार्ट अटैक होने की सम्भवना काफी बढ़ जाती हैं

6. जीवनशैली :-
अपने व्यशत और तनाव भरी जीवनशैली में आहार, नींद, काम, व्यायाम और आराम में योग्य सामंजस्य बैठाकर अपने heart को healthy बनाये रखने में मदद कर सकते है ।

7. नशा / मादक पदार्थ
अगर आप मादक पदार्थ जैसे तम्बाखू, गुटखा, शराब, सिगरेट या बीड़ी जैसा कोई भी नशा करते है तो हार्ट अटैक की संभनाओ को बढ़ावा दे रहे हैं । जो लोग इन नशे के आदि होते है उन्हें एक सामान्य व्यक्ति के तुलना में हार्ट अटैक का खतरा 75% अधिक होता हैं। स्वयं धुम्रपान न करे और यदि कोई करता है तो या तो उसे मना करे या फिर उस धुए से बचकर रहे।

8. रोग :-
अगर आप डायबिटीज हाई ब्लड प्रेशर या कोलेस्ट्रॉल की अनियमितता और अधिकता जैसे किसी रोग से ग्रसित है तो इनको नियंत्रित करने के लिए प्रयाशरत रहना चाहिए। जिन्हे यह बीमारी होती है उन्हें हार्ट अटैक आने की संभावना बेहद ज्यादा होती हैं। इन रोगियों को कभी भी अपने बीमारी को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और समय-समय पर इसका परीक्षण करवाते रहना चाहिए ।

9. संतुलित आहार :-
ऐसा आहार जिसमे सभी आवश्यक पोषक तत्व जैसे की Vitamins, Proteins, Fats, Fiber, Nutrients और उर्जा (Calories) पर्याप्त मात्रा में मिलती हैं उसे संतुलित आहार कहते हैं । संतुलित आहार के रूप में साबुत अनाज, हरी सब्जिया, दालें, अंकुरित अनाज, फल, दूध और दुग्धजन्य पदार्थ और मांसाहार का सेवन करना चाहिये । किसी भी बिमारी से लड़ने के लिए हमारे लिए संतुलित आहार लेना अत्यंत ही जरुरी है । संतुलित आहार के सेवन से हमारे हृदय के साथ साथ पूरा शरीर तंदुरुस्त रहता हैं ।

10. योग और व्यायाम :- शरीर को स्वस्थ और निरोग रखने के लिए हर एक इंसान को प्रत्येक दिन 30-60 मिनट व्यायाम और योगाभ्याश करना चाहिए । व्यायाम के तौर पर साइकिलिंग, पैदल चलना, रस्सी कूदना जैसे अभ्याश कर सकते है जो की काफी सरल है इसके साथ-साथ आप योग और प्राणायाम के कुछ महत्वपूर्ण आसनो का भी अभ्याश करे – अनुलोम विलोम, कपालभाति, शीतली प्राणायाम, उज्जयी प्राणायाम, भुजंगासन, सूर्यनमस्कार, पश्चिमोत्तानासन, पवनमुक्तासन इत्यादि

यह भी देखे
योग और प्राणायाम
योग से होने वाले फायदे

11. रक्त दान:- एक निश्चित अंतराल पर रक्त दान (Blood Donate) करे । खून का जमना अथवा मोटा होने जैसी समस्या से इससे बचा जा सकता हैं । रक्त दान से किसी भी प्रकार की शारीरक कमजोरी नही होती अतः हर एक स्वस्थ इंसान को रक्त दान करते रहना चाहिए

12. अगर आपके परिवार में डायबिटीज,हाई ब्लड प्रेशर,या कोलेस्ट्रॉल की अधिकता का इतिहास रहा है तो 30 वर्ष के बाद अपना निरंतर चेकप करवाते रहना चाहिये

13.जंक फूड और फास्ट फूड में ज्यादा ऑयल होता है इसलिए ये हार्ट के लिए बेहद खतरनाक होता हैं। अधिक तलाहुआ, मसालेदार और फ़ास्ट फ़ूड आहार लेते है तो रक्त नलिका में ब्लॉकेज होकर हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती हैं। शरीर को स्वस्थ रखने ऐशे आहार का सेवन कम करे या तो न करने में ही समझदारी हैं ।

14. मल मूत्र को रोकना भी शरीर के लिए अच्छा नहीं है इसको रोकने से पेट की बीमारियों के साथ साथ दिल पर प्रभाव पड़ता है ।

15. शारीरिक रूप से हमेशा सक्रिय रहना चाहिए और ज्यादा देर तक एक ही जगह बैठने से भी बचना चाहिए । हृदय रोगों के जोखिम को कम करने के लिए एक सप्ताह में कम से कम 150 मिनट मध्यम गति से ऐरोबिक व्यायाम करने चाहिए.

हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

हार्ट अटैक से जुड़े लेख
हृदयाघात आने पर क्या करे और क्या न करे
हार्ट अटैक के क्या कारण है
महीने भर पहले दिखने वाले हृदयाघात के 15 लक्षण व संकेत

गर्भधारण से जुड़े लेख

संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ
प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए

शीघ्रपतन से जुड़े लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.