Health Insurance Details and benefits in Hindi | स्वास्थ्य बीमा और उसके फायदे


Health Insurance Details in Hindi, वर्तमान समय में लोगों के जीवन में भविष्य संबंधी कई चिंताए होती हैं, इन चिन्ताओ को देखते हुवे सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थाओ ने विभन्न तरह की बीमा व इंश्योरेंस की सुविधा दे रखी हैं जो की आर्थिक सुरक्षा के साथ-साथ भविष्य को सुनयोजित करने का सुनहरा मौका देती हैं। आज के दौर में कई तरह की बीमा व इंश्योरेंस सुविधा उपलब्ध हैं आज हम आपको स्वास्थ्य बीमा व हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में पूरी जानकारी देंगे। हम में से हर कोई स्वस्थ जीवन को अपनी शर्तों पर परिभाषित करना चाहते हैं। जिससे आपके परिवार के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य और उसकी ख़ुशियाँ सुनिश्चित हो सकें।



Health Insurance Details and benefits in Hindi

स्वास्थ्य बीमा व Health Insurance एक एक ऐसा अनुबंध है, जो जोखिम दूर करता है और अनिश्चितता की जगह निश्चितता लाता है जिसके माध्यम से आप, अपने और अपने परिवार (व्यक्तिगत और परिवार) के मेडिकल और सर्जिकल खर्चो को बेहतर प्रबंधन अपने नियंत्रण में रख सकते है। यह आपके परिवार (या आश्रितों) को वित्तीय हानि से बचाता है जो आपकी किसी असामयिक घटना की स्थिति में उत्पन्न हो सकता है।
मुख्यतः Health Insurance ग्राहक को किसी रोग या दुर्घटना के समय हॉस्पिटलाइजेसन, एम्बुलेंस, नर्सिंग केयर, सर्जरी, मेडिकल बिल आदि के भुगतान में सहायता करता है। सामान्यत: सभी बीमा कंपनियां बीमाधारक के साथ, उसकी पत्नी व दो बच्चों को एक ही पॉलिसी में कवर करती है। वहीं कुछ पॉलिसी आश्रित माता-पिता को भी कवर करती है। स्वास्थ्य बीमा व हेल्थ इंश्योरेंस के मूल्य का निर्धारण लोगों की संख्या,बीमाधारक की स्वास्थ्य सुरक्षा की गणना,साथ ही वर्तमान में विभिन्न स्रोतों से मिलने वाले कवरेज को ध्यान में रखकर होती है। भारत में स्वास्‍थ्‍य बीमा को दो तरीके से खरीदा जा सकता है सामूहिक या व्यक्तिगत, व्यक्तिगत बीमा में सिर्फ बीमाधारक को सुरक्षा दी जाती हैं। लेकिन सामूहिक बीमा में बीमा करानेवाला या प्रायोजक और दूसरे लाभार्थी भी बीमा के अंदर सुरक्षित रहते हैं। Health Insurance के अंतर्गत भुगतान किया गया प्रीमियम आयकर अधिनियम की धारा 80 D के अंर्तगत आयकर से मुक्त है (कर लाभ, कर कानूनों के अधीन परिवर्तनीय हैं)
नोट :- भारत में पालसी धारक के हितों कि रक्षा करने हेतु, एवं बीमा उद्योग का क्रमबद्ध विनियमन, संवर्धन तथा संबधित व आकस्मिक मामलों पर कार्य करने हेतु बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (Insurance Regulatory and Development Authority / IRDA) का संगठन किया गया है।

Types of Health Insurance in Hindi | स्वास्थ्य बीमा के प्रकार

स्वास्थ्य बीमा व हेल्थ इंश्योरेंस के कई प्रकार हैं।

i)व्यक्तिगत स्वास्‍थ्‍य बीमा योजना :- व्यक्तिगत स्वास्‍थ्‍य बीमा की स्थिति में एक व्यक्ति को ही बीमा पोलिसी का लाभ मिलता है
ii) फ्लोटर योजना :- इस बीमा के अंतर्गत (व्यक्तिगत और परिवार) एक पॉलिसी के अंतर्गत एक बीमा राशि के अंतर्गत स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा समाधान प्रदान करती है।
iii) क्रिटिकल इलनेस इन्सुरांस प्लान्स :- क्रिटिकल इलनेस एक क्रिटिकल हेल्थ स्थिति है जिसका व्यक्ति की जीवन शैली पर कमजोर पड़ने वाला प्रभाव होता है और उपचार के लिए काफी धन की आवश्यकता होती है। यह काम करने में असमर्थता के कारण आय का नुकसान भी हो सकता है। आमतौर पर ऐसी बीमारियों में होने वाला वित्तीय नुकसान इतना अधिक होता है कि साधारण हेल्थ प्लान उसकी भरपाई नहीं कर पाते। इस दिक्कत से निपटने के लिए जरूरी है कि क्रिटिकल इलनेस इंश्योरेंस प्लान लिया जाए।
iv) सीनियर सिटीजन स्वास्थ्य बीमा योजना :- ये Health Insurance उन सभी लोगों के लिए है, जो 60 वर्ष या उससे ज्‍यादा के हो गए हैं। इस Health Insurance में वृध्‍दावस्‍था के दौरान Health से जुड़ी बीमारीयों के लिए सुरक्षा प्रदान की जाती है।
v) मातृत्‍व स्‍वास्‍थ्‍य बीमा :- यह Policy गर्भवती महिला और उसके शिशु के सारे खर्चों को Cover करता है। जैसे नवजात शिशु के जन्‍म से पहले के टीकाकारण, शिशु के जन्‍म से पहले उसकी माता के सभी तरह के Checkup और शिशु के जन्‍म के बाद शिशु व माता दोनों के सभी तरह के टीकाकारण, Checkup व अन्‍य सभी तरह के देखभाल से सम्‍बंधित खर्चों को Include किया जाता है।
vi) छात्रों के लिए मेडीक्ले‍म पालिसी :- विद्यार्थी चिकित्सा बीमा विद्यार्थी की पढ़ाई के दौरान स्‍वास्‍थ्‍य की देखभाल के खर्चे के लिए किया जाता है । बहुत से विदेशी कालेज में इस प्रकार का बीमा जरूरी होता है ।




Health Insurance benefits in Hindi | स्वास्थ्य बीमा के लाभ

स्वास्थ्य बीमा का क्या महत्त्व हैं और स्वास्थ्य बीमा क्यों लेना चाहिए इसकी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :
i) टैक्स लाभ :- सेक्शन 80D के अनुसार बीमा ग्राहक को कुछ कर लाभ भी प्राप्त हो सकता है। ग्राहक को इस सेक्शन के तहत रू 55,000 तक का लाभ मिल सकता है।
ii) कैशलेस सर्विस :- कई बीमा कंपनियों का बड़े बड़े अस्पतालों से सीधा- सीधा सम्बन्ध है, जो खुद से संलग्न अस्पतालों में अपने बीमा ग्राहकों को कैशलेस सेवा मुहैया कराते हैं।
iii)ऑनलाइन सुविधाएँ :- स्वास्थ्य बीमा अब ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है, इससे हम बीमा सम्बंधित सभी जानकारियां स्वयं जान पायेंगे और अपनी आवश्यकतानुसार अपने लिए सही बीमा का चयन कर सकते हैं।
iv) स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) के तहत आप हर वर्ष बहुत छोटी रकम (Premium) देकर अपने आपको तथा अपने परिवार को चिकित्सा खर्चो से सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं।
v) किसी भी बिमारी की अच्छी से अच्छी चिकित्सा प्राप्त करने और चिकित्सा खर्च के आकस्मिक बोझ से बचने के लिए स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) लेना फायदेमंद साबित हो सकता हैं।
vi) सड़क पर यातायात की सुविधाएं बढ़ने के साथ-साथ सड़क दुर्घटनाए की संख्या में भी इजाफा हुआ हैं। इस तरह के आकस्मिक वित्य हानि से बचने के लिए Health Insurance आपके लिए फायदेमंद हैं।
vii) आधुनिक युग में क्रिटिकल इलनेस जैसे स्ट्रोक, कैंसर, किडनी से जुडी गंभीर समस्या आम होती जा रही हैं जिनका इलाज काफी खर्चीला होता हैं ऐशे में इस दिक्कत से निपटने के लिए जरूरी है कि क्रिटिकल इलनेस इंश्योरेंस प्लान लिया जाए।
viii) अगर चिकित्सा अस्पताल में हो रही है, जो कि बीमा प्रदाता से सम्बन्धी है तो इस स्थिति में बीमा कंपनी सीधा अस्पताल को पैसे दे देती है अथवा व्यक्ति को शुरूआत में खर्च उठाना होता है और फिर बाद में बीमा कंपनी में अपने पैसे का दावा कर सकता है ।
ix) स्वास्थ सम्बन्धी बीमायें अधिक सहज और फ्लेक्सिबल होती है यानि की ग्राहक अपने जीवनकाल में किसी भी समय यह प्लान रिन्यू करा सकता है

Health Insurance important facts in Hindi | स्वास्थ्य बीमा की जानने योग्य बातें

स्वास्थ्य बीमा लेते वक्त ध्यान देने वाली बातें जो हमेशा याद रखनी चाहिए। बीमा सम्बंधित निर्देशों, नियमो तथा शर्तों को जानना बेहद आवश्यक है. विभिन्न प्लान के विभिन्न नियम होते हैं. जैसे–
i) ग्राहक को यह जानना आवश्यक है कि पूर्व मेडिकल स्थिति को कवर किया गया है या नहीं। ग्राहक को उन सभी मेडिकल खर्चों को ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है जिसका प्रयोग न किया गया हो
ii) जब आप कोई स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) policy खरीदते है प्रथम वर्ष में पहले महीने / 30 दिन तक किसी रोग की चिकित्सा का दावा कवर नहीं होता हैं पर इन दिनों में दुर्घटना या चोट का दावा कवर होता हैं।
iii) स्वास्थ्य बीमा की कई अलग तरह की policy होती है। आप अपने आयु और परिवार को ध्यान में रखकर योग्य policy का चयन करे। एजेंट की सलाह लेने से अच्छा स्वयं online search करे और अलग-अलग policy के features का अभ्यास करे और इनके premium की तुलना कर अपने लिए योग्य पालिसी ख़रीदे।
iv) स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) फॉर्म में संपूर्ण जानकारी भरे और कोई बीमारी के ईतिहास होने पर उसे छुपाए नहीं।
v) स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) जिनके लिए ले रहे हैं उनका स्वास्थ्य इतिहास, नाम, उम्र और जन्मतारीख फॉर्म के अन्दर सही दर्ज करे।
vi) स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) में कौन से रोग का समावेश नहीं है अथवा कितने वर्षो के बाद बीमा में समावेश हो सकते है उसकी जानकारी प्राप्त करे। उदा : स्वास्थ्य बीमा के प्रथम दो वर्षो में हर्निया, हाइड्रोसिल, बवासीर और मोतियाबिंद जैसे कई रोगों का समावेश नहीं होता हैं।
vii) अपने स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) का पहचान पत्र हमेशा साथ रखे।
viii) अगर कभी हॉस्पिटल में चिकित्सा के लिए भर्ती होना पड़े तो तुरंत अपना स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) कार्ड और फोटो पहचान पत्र हॉस्पिटल के स्टाफ / डॉक्टर को दिखा देना चाहिए ताकि cashless की सुविधा होने पर आपको इसका लाभ मिल सके।
ix) अगर हॉस्पिटल में Cashless की सुविधा नहीं होती है तो भर्ती होने के बाद 12 घंटे के अन्दर स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) कंपनी को कार्ड के पीछे दिए हुए Toll Free नंबर पर फोन कर अपने हॉस्पिटल में भर्ती होने की जानकारी देनी चाहिए। इससे आपको Hospitalization Claim Reimbursement में दिक्कत नहीं आती हैं।
x) स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) का दावा / claim करते समय भेजे गए सभी दस्तावेजो की xerox copy अपने पास रखनी चाहिए।
xi) बीमा खरीदते समय इस बात का ख़ास ध्यान रखना चाहिए कि ख़रीदी जा रही बीमा को-इन्स्युरेंस है या नहीं। साथ ही बीमा की अंतिम तारिख को ध्यान में रखते हुए बीमा अपडेट कराते रहना चाहिए
xii) अगर आपको आपके स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance) कंपनी से कोई शिकायत है या भुगतान में कोई तकलीफ आती है तो आप इसकी शिकायत / जानकारी [email protected] पर कर सकते है या 155255 पर फोन कर भी दे सकते हैं।

स्वास्थ्य बीमा के फायदे और नुकसान
हेल्थ इंश्योरेंस कितने प्रकार होते है
अच्छे हेल्थ इंश्योरेंस का चुनाव कैसे करे?
स्वास्थ्य बीमा के लिए कैसे दावा करें?
पैरालिसिस, लकवा, पक्षाघात के कारण लक्षण और उपाय
हार्ट अटैक के कारण लक्षण और उपाय

Reference From
hi.wikipedia.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *