Depression Solution in Hindi | डिप्रेशन से बचने के तरीके


Depression Solution in Hindi | How to overcome from depression in Hindi, डिप्रेशन व अवसाद आज के आधुनिक युग की आम समस्या बनती जा रही हैं । कई बार तो यह समस्या इतनी गंभीर हो जाती है की मनुष्य इसके आवेश में आकर आत्हत्या तक कर लेता हैं । मानसिक तनाव और डिप्रेशन, स्वस्थ और सेहतमंद जीवनशैली को बेहद प्रभावित करता है। इसका प्रभाव न केवल आपके मन व मस्तिष्क पर नकारात्मक रूप से असर डालता है, बल्कि यह आपको शारीरिक रूप से भी कमजोर कर देता है। इसलिए डिप्रेशन से बचने के लिए उसे जानना, कारण और दूर करने का प्रयास करना अत्यंत ही जरूरी है ।




Depression in Hindi | डिप्रेशन क्या होता है?

“डिप्रेशन व अवसाद एक ऐसी मानसिक स्थिति या स्थायी मानसिक विकार है जिसमे व्यक्ति को उदासी, अकेलापन, निराशा, कम आत्मसम्मान, और आत्मप्रतारणा महसूस होती है ; इसके संकेत मानस – मिति संबंधी मंदता , समाज से कटना ,और ऐसी स्थितिया जिसमे की कम भूख लगना और अत्यधिक नीद आना में नज़र आते हैं.” चिंता और तनाव के कारण शरीर में कई हार्मोन (hormones) का level बढ़ता जाता है, जिनमें एड्रीनलीन (adrenaline) और कार्टिसोल (cortisol) प्रमुख हैं। लगातार तनाव (stress) और चिंता (tension) की स्थिति अवसाद यानि की depression में बदल जाती है।

डिप्रेशन के लक्षण | Depression symptoms in Hindi

डिप्रेशन व अवसाद से जुड़े लक्षण मुख्यतः दो तरीको से देखने को मिलते है ।

मनोविज्ञानिक लक्षण
1. निरन्तर चिंता करना
2. स्वस्थ के विषय में चिंता करना
3. नकारात्मक विचार आना
4. भ्रामक विचार
5. काम में मन ना लगना
6. स्वभाव चिड़चिड़ा होना
7. छोटो छोटी बातो पर गुस्सा आना
8. भ्रम करना
9. मनःस्थिति में बदलाव
10. पागलो जैसा बर्ताव करना
11. अकेला रहना
12. बुरे सपने आना
13. खुश न रहना
14. स्ट्रेस लेना
15. कम बोलना
16. डर लगना




शारीरिक लक्षण

1. सर दर्द होना
2. दिल का काँपना
3. खाना निगलने में मुश्किल
4. उल्टी आने को होना
5. बार बार बाथरूम जाना
6. पीला पड़ना
7. श्वास छोटा होना
8. चक्कर आना
9. मासपेशियों में दर्द
10. दिल की धड़कन तेज होना
11. शारीर का काँपना
12. पसीना आना
13. ब्लड प्रेशर कम ज्यादा होना
14. थकावट होना

अवसाद के कारण | Depression causes in Hindi

‘डिप्रेशन’ का कारण वातावरण परिस्थिति, स्वास्थ्य, सामर्थ्य, संबंध या किसी घटनाक्रम से जुड़ा हो सकता है। शुरुआत में व्यक्ति को खुद नहीं मालूम होता, किंतु उसके व्यवहार और स्वभाव में धीरे-धीरे परिवर्तन आने लगता है। कई बार अतिरिक्त चिड़चिड़ापन, अहंकार, कटुता या आक्रामकता अथवा नास्तिकता, अनास्था और अपराध अथवा एकांत की प्रवृत्ति पनपने लगती है या फिर व्यक्ति नशे की ओर उन्मुख होने लगता है। Depression का सही कारण समझना उसके इलाज को आसान बना सकता है ।

i) अकेलापन
ii) Social support की कमी
iii) वित्तीय समस्याएं
iv) हाल में हुए तनावपूर्ण अनुभव
v) वैवाहिक या अन्य रिश्तों में खटास
vi) खराब बचपन
vii) शराब या अन्य नशीली दवाओं का सेवन
viii) बेरोजगारी
ix) Work pressure




डिप्रेशन का इलाज | Depression Treatment in Hindi

डिप्रेशन के समय इंसान को लगता है की उसकी ज़िंदगी मे कुछ भी नही बदलने वाला और वह इंसान अपनी हार मान लेता है। तो आइये जानते है की कैसे आप नकरात्मक विचारो से छुटकारा पाकर depression को कम कर सकते है।

1. परिवार और दोस्तों के साथ वक्त बिताएं – अत्यधि‍क तनाव के समय किसी से मिलने जुलने या बातें करने का बिल्कुल मन नहीं करता। लेकिन यकीन मानिए यह तरीका आपको डिप्रेशन में जाने से बचा सकता है। जब भी आपको लगे कि‍ आप मानसिक तनाव या डिप्रेशन के शि‍कार हैं, अपने परिवार के लोगों या खास दोस्तों के साथ समय बिताएं और बातें करें।

2. तनाव को पहचानें – यह सबसे महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। जो बातें आपको तनावग्रस्त करती हैं उन्हें यदि आप केवल पहचान ही लेंगे तो उन्हें दूर करने के उपाय करना आसान हो जायेगा।

3. अनावश्यक संकल्पों को छोड़ दें – हम अपने जीवन में कई सारे संकल्प करते हैं – हमें यह करना है – हमें वह करना है। इनमें से प्रत्येक की समीक्षा करें। क्या ऐसा कुछ है जो अच्छे परिणाम की अपेक्षा तनाव देता है उस संकल्प को पहले दूर करें जो ज्यादा तनाव देता हो।

4. सामाजिक सक्रियता – सामाजिक रूप से सक्रिय रहना आपको व्यस्त भी बनाए रखेगा और तनाव के कारण की ओर से आपका ध्यान भी बंटेगा। इससे आप नकारात्मकता के शि‍कार न होकर अपनी ऊर्जा का सही उपयोग कर पाएंगे। कुछ समय में आप सकारात्मकता का अनुभव करेंगें।

5. नकारात्मकता से दूर रहें – खुद को सकारात्मक बनाएं और प्रोत्साहित करें। अपनी खूबियों और अब तक की उपलब्धि‍यों की लिस्ट बनाएं या फिर कुछ अच्छा और उपयोग कार्य करने के लिए योजना बनाएं। खुद से प्रेम करें और हर चीज को सकारात्मक नजरिए से देखें।

6. भरपूर नींद लें – तनावग्रस्त होने पर अपनी नींद का पूरा ध्यान रखें। कम से कम आठ घंटे की नींद जरूर लें। नींद पूरी होगी तो दिमाग को आराम मिलेगा और वह बगैर तनाव के बेहतर तरीके से कार्य करेगा। छोटे-मोटे तनाव के लिए नींद एक बेहतरीन इलाज है।

7. ऊर्जा का क्षय रोकें – कुछ काम ऐसे होते हैं जिनमें दूसरे कामों कि अपेक्षा ज्यादा ऊर्जा और समय लगता है। उन्हें पहचानें और हटायें, जिंदगी बेहतर जीने के लिए भरपूर ऊर्जा का होना जरूरी है।

8. स्वयं को समय दें – स्वयं को थोडा अधिक समय देने का प्रयास करें। ज़रूरी नहीं है कि हर काम घड़ी देखकर किया जाए। इस तरह कभी-कभार बचने वाले थोड़े-थोड़े समय को स्वयं को देने में या पसंदीदा काम करने में लगायें।

9. मल्टीटास्किंग बंद करें – मल्टीटास्किंग का अर्थ है एक साथ कई काम करना, कई लोग इसे बहुत बड़ा गुण समझते हैं लेकिन हकीकत में इसके नुकसान अधिक हैं। यह हमारी काम करने की गति को सुस्त और बाधित कर देता है। इससे काम के ज़रूरी पक्षों से ध्यान हट भी सकता है। यह तनाव बढ़ाता है। इसलिए एक वक़्त में एक ही काम करें।

10. मनोवैज्ञानिक से सलाह ले – यदि इन सब चीजों से बात ना बने तो किसी mental health professional से हेल्प लीजिये . Depression के treatment के लिए कई प्रभावकारी तरीके हैं: जैसे कि थेरेपी , दवाएं, alternative treatments इत्यादि. Exactly क्या तरीका use करना है ये आपके depression के कारणों पर depend करेगा।

11. योग और प्राणायाम – डिप्रेशन व अवसाद के लिए कई जरुरी योगासन और प्राणायाम है जिसकी मदद से हम और आप डिप्रेशन व अवसाद से मुक्ति पा सकते हैं । उत्तनासन, जनुसिर्सान, भुजंगासन, सेतुबंधसर्वांगासन, सलंबसिर्सासन, शवासन, सुखासन जैसे कई जरुरी योगासन है जिसके निरंतर अभ्यास से आपको फायदा मिलता हैं

हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

मोटापे के कारण,लक्षण और घरेलू उपाय
ऑफिस कर्मचारियों के लिए फिटनेस टिप्स
Diabetes,Sugar,Blood Pressure को control कैसे करे?
वज़न कम करने के तरीके
कब्ज के रोगियों के लिए आयुर्वेदिक, घरेलू दवा और इलाज
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

Sources By – whatsknowledge.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.