How to check Blood Pressure in Hindi | ब्लड प्रेशर का जांच घर पर कैसे करे ?


How to check Blood Pressure in Hindi, ब्लड प्रेशर यानि की रक्तचाप स्वास्थय से जुड़ी गंभीर समस्या हैं। पिछले कुछ सालो में डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीजों की संख्या में काफी बढ़ोतरी देखी जा रही है। एक सर्वे के मुताबिकआज भारत में यह हालात है की लगभग हर घर मे कोई न कोई व्यक्ति को उच्च या निम्न रक्तचाप / Blood pressure की समस्या जरूर होती हैं। ब्लड प्रेशर की समस्या इतनी आम हो चुकी है की घर में किसी को ब्लड प्रेशर जांचना (check Blood Pressure) आना जरुरी बन चूका हैं। ज्यादातर मामलों में ब्लड प्रेशर की समस्या का पता तब चलता है जब इससे शारीरिक नुकसान हो चुका होता हैं।



How to check Blood Pressure in Hindi?

आज के दौर में मेडिकल साइंस इतनी तरक्की कर ली है की यदि आपको डायबिटीज़ और हाई ब्लड प्रेशर है, तो आप घर पर ही अपना ब्लड प्रेशर चेक कर सकते हैं। जिसके लिए आवश्यक संसाधन और कुछ खास बातो पर ध्यान रखने की आश्यकता होती हैं।

घर पर ब्लड प्रेशर चेक करते हुए इन नियमों का पालन करें-

i) ब्लड प्रेशर की जॉच कभी भी लेटकर और खड़े होकर नहीं करना चाहिए हमेशा बैठकर चेक करना चाहिए, जब हाथ सही लेवल पर टिका हो।

ii) आराम से बैठें। पैर जमीन पर टिके हों, कमर सीधी हो और हाथ कोहनी से मुड़े हों। पैरों को मोड़ें नहीं। अब कोहनी को टेबल पर टिकाएं और हथेली ऊपर की तरफ हो।

iii) ध्यान रखें, आपका ब्लडर खाली हो, वरना उसका भी असर पड़ सकता है।

iv) अगर आप रोज ब्लड प्रेशर चेक कर रहे हैं तो ध्यान रखें वक्त एक ही हो।

v) ब्लड प्रेशर चेक करने से कम से कम 30 मिनट पहले न स्मोकिंग करें और न ही ड्रिंक।

vi) किसी भी व्यक्ति का ब्लड प्रेशर तुरंत नहीं लेना चाहिए। व्यक्ति को पहले 5 मिनिट शांति से लेटने दे और उसके बाद ही ब्लड प्रेशर जांचे। ब्लड प्रेशर लेते समय व्यक्ति शांत और संतुलित होना चाहिए। कोई व्यायाम, सीढ़ी चढ़ना, तेज चलना, तनाव या घबराहट के कारण भी कभी-कभी थोड़े समय की लिए ब्लड प्रेशर काफी बढ़ जाता हैं।




घर पर ब्लड प्रेशर की जांच कैसे करे ? How to check Blood Pressure at Home in Hindi

घर पर रक्तचाप की जॉच (check Blood Pressure) के लिए हम दो उपकरणों में उपयोग में लाते हैं जो की हैं। …

i) Stethoscope : जिसे अक्सर डॉक्टर एक बाजु से अपने कान में लगाते है और दूसरी ओर diaphragm से आपके सीने पर लगाकर धड़कन सुनते हैं।

ii) Sphygmomanometer : बाजार में यह सामान्य और डिजिटल दो प्रकार में उपलब्ध हैं पर डिजिटल में ब्लड प्रेशर कम ज्यादा बता सकता हैं जो की सामान्य जिसे Mercury Spygmomanometer कहते है इसके अनुपात में कम विश्नीय हैं । घरेलु उपयोग के लिए आप Mercury Spygmomanometer ले सकते है अगर आप इसे operate करने में सक्षम हो।

ब्लड प्रेशर की जांच कैसे की जाती हैं ? Steps of Measuring Blood pressure in Hindi

i) सबसे पहले व्यक्ति (रोगी) के बाए (Left) हाथ पर BP मशीन का कफ बांधे। कफ इस तरह बांधे के कफ का निचला हिस्सा कोहनी (Elbow) से थोड़ा सा ऊपर ख़त्म होगा। कफ बेहद टाइट या बेहद ढीला बंधा नहीं होना चाहिए। कफ इस तरह बांधे की कफ को लगी दो नली व्यक्तिके हाथ के अंदर की ओर यानि शरीर के साइड में होनी चाहिए।

ii) रोगी का हाथ और BP की मशीन दोनों समांतर होना चाहिए। रोगी खड़ा और BP मशीन निचे या BP मशीन ऊपर और रोगी निचे बैठा हुआ ऐसा नहीं होना चाहिए।

iii) अब स्टेथोस्कोप को कान में लगाकर रोगी के कोहनी के ऊपर diaphragm को रखे।

iv) BP मशीन के बॉल के वाल्व को घुमाकर टाइट करे और बॉल को दबाते हुए BP की मशीन का प्रेशर बढ़ाये। जिसप्रेशर पर आपको कोहनी मेंpulse का आवाज स्टेथोस्कोप से सुननाबंद हो जाये उससे 10 अंक अधिक तक प्रेशर को बढ़ाये।

v) अब वाल्व को धीरे से थोड़ा ढीला करे और BP की मशीन का प्रेशर कम करे।

vi) BP की मशीन में पारा (Mercury) के जिस अंक पर पहलीबार आपको स्टेथोस्कोप से pulse की आवाज सुनाई देंगी वह नोट करे। इसे ऊपर का ब्लड प्रेशर यानि Systolic Blood pressure कहा जाता हैं।

vii)अब धीरे-धीरे बॉलका वाल्व को घुमाकर ढीला करते रहे और जब Pulse की आवाज सुनायी देना बंद कर देती है वह अंक नोट करे। इसे निचे का BP यानि Diastolic blood pressure कहा जाता हैं।

viii) अंत में पूरा वाल्व खोल दे और कफ को दबाकर पूरी हवा निकाल दे।

ix) अगर आपके पास स्टेथोस्कोप नहीं है तो आप BP मशीन और हाथ सेकेवल आप ऊपर का BP जांच सकते हैं। इसके लिए कलाई पर हाथ रख नस का परिक्षण करे और प्रेशर बढाकर कम करते समय जब आपको उंगली से कलाई में नस का एहसास पहली बारहोता हैं वह ऊपर का BP हैं।

ब्लड प्रेशर की जांच करते समय किन बातों का ख्याल रखे ?

i) स्टेथोस्कोप से आपको आवाज न आये तो इसे निचे से diaphragm कोघुमाकर देखे, diaphragmपर स्पर्श करने से कान मेंआवाज आना चाहिए तब उसे चालू समझे।

ii) व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 140/90 mmHg से अधिक या 90/60mmHg आने पर3 बार BP जांचे और तीनों का average निकाले। एक सामान्य वयस्क व्यक्ति का ब्लड प्रेशर 120/80 mmHg रहता हैं।

iii) व्यक्ति के दोनों हाथों में ब्लड प्रेशर की जांच करे और जिस हाथ में अधिक ब्लड प्रेशर आता है वह सही ब्लड प्रेशर मानना चाहिए।

iv) समय-समय पर ब्लड प्रेशर की मशीन और स्टेथोस्कोप सही है या नहीं या इनमे कुछ गड़बड़ी हैंइसकी डॉक्टर से दिखाकर जांच कराये।

v) अगर व्यक्ति का BP 140/90 mmHg या इससे अधिक है या 90/60mmHgया इससे कम है तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

vi) डिजिटल मशीन में BP जांचना आसान होता है। इसमें केवल ऊपर दिए हुए तरीके से आपको केवल कफ बांधना है और मशीन चालू करना होता हैं। Start दबाने पर मशीन अपने आप कफ में हवा भरता है और धीरे-धीरे प्रेशर कम करता हैं। अंत में मशीन में आपका BP दर्शाता हैं। अगर आपको सामान्य मशीन से BP करने में दिक्क्त होती है तो आप बेसिकडिजिटल BP की मशीन ले सकते है जो 2500 से 5000 तक आती है। इस मशीन में BP 10 से 20 अंक तक कम-ज्यादा दिखाता हैं।

अन्य जरुरी लेख
ब्लड प्रेशर के बारे में विश्तार से जाने
उच्च रक्तचाप | हाई ब्लड प्रेशर के कारण, लक्षण,घरेलू दवा और इलाज
डायबिटीज,मधुमेह,ब्लड प्रेशर का घरेलु इलाज
डायबिटीज के कारण
डायबिटीज के 15 लक्षण
डायबिटीज के 15 प्रकार
डायबिटीज से जुड़े अहम टेस्ट

Reference By
nirogikaya.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.