Best Pregnancy Tips in Hindi | गर्भधारण कैसे करे?


Best Pregnancy Tips in Hindi , गर्भधारण कैसे करे यह एक ऐसा सवाल जो है जो की युवा दम्पतियो को काफी परेशान करता रहता है मेरे अपने अध्यन के अनुसार ” How to “ keyword से संबधित search keyword ” How to get pregnant | How can I get pregnant ?“ भारत में खोजे जाने वाली नम्बर वन ” How to ” query में से एक है। जिससे साफ पता चलता है की भले ही हम कितने भी आधुनिक हो गए हो लेकिन आज भी कई लोगो को गर्भधारण करने का सही तरीका क्या है इसके बारे में सही-सही और पूरी जानकारी मालूम नहीं है
इसलिए आज मैं healthnuskhe.com Blog के माध्यम से ”How to get pregnant in Hindi “ share कर रहा हूँ, ताकि आज के बाद इस topic पर internet पे एक अच्छा लेख लोगो को पढने को मिल सके।



Best pregnancy tips in Hindi

i) संबंध कब बनाये :- Ovulation Cycle के दौरान जोड़े के बीच सम्बन्ध स्थापित होना चाहिए जिससे की गर्भ ठहरने की सम्भावना बढ़ सके। Ovulation एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे महिलाओं के Ovary (अंडाशय ) से egg (अंडे) निकलते हैं। Ovulation menstruation cycle(MC) यानि मासिक धर्म चक्र का पार्ट होता है, जो कि MC के चौदहवें दिन, जब bleeding start होती है तब शुरू होता है। जैसे अगर आपके मासिक-धर्म की शुरुआत 30 तारीख को होनी है तो 14 से 18 तारिख का समय Ovulation का समय होगा।

ii) संबंध कैसे बनाये :- संबंध बनाने के समय जोड़े कि शारीरिक अवस्था ऐसी होनी चाहिए जिससे पुरुष महिला
साथी के ऊपर रहे तथा संबंध के बाद महिला को अपनी पीठ के बल 15 मिनट तक लेटा हुए रहना चाहिए जिससे की पुरुष द्वारा छोड़े गए शुक्राणु स्त्री के बीज तक आसानी से पहुँच सके।
संबंध बनाने के दौरान महिला साथी को पूरी तरह उत्तेजित होना जरुरी होता है । जिससे उसके uterus(गर्भाशय) का मुँह पूरी तरह खुल सके तभी पुरुष द्वारा छोड़े गए शुक्राणु स्त्री के uterus(गर्भाशय) के मुख के पास इकठ्ठा हो पायेगा ।

iii) चिकित्शीय सलाह :- बच्चे कि planning करने से पहले चिकित्शीय सलाह ले लेना और अपनी जांच करा लेना चाहिए । इससे यह पता चल जायगा कि आपको किसी तरह कि शारीरिक परेशानी तो नहीं है , या कोई infection वगैरह। इससे sexually transmitted disease होने की सम्भावना खत्म हो जाएगी। साथ ही अगर डिम्बग्रंथि अल्सर, फाइब्रॉएड, endometriosis, गर्भाशय के स्तर की सूजन जैसे परेशानियों की भी जांच हो जाएगी।



iv) स्वस्थ शुक्राणु :- गर्भावस्था को प्राप्त करने के लिए पुरुष के Semen में शुक्राणु की संख्या और उनकी गतिशीलता (Motility) अधिक होना Best Pregnancy Tips के लिए जरुरी होता हैं। जिसके लिए पुरुष कुछ खास बातो पर ध्यान देना जरुरी होता है जैसे की एक स्वस्थ और नशामुक्त जीवनशैली, समतोल पौष्टिक आहार का सेवन, मोटापा से बचे, रोज व्यायाम और योगाभ्यास करे।

v) अन्य :- ऊपर दिए गए निर्देशों के साथ-साथ और भी कुछ खास बाते है जिन चीजों पर ध्यान देना आवश्यक है जैसे की ….
पुरुष के शुक्राणु गर्भाशय में 48 से 72 घंटों तक जीवित रह सकते है इसलिए जरुरी है की इन दिनों में एक दिन छोड़कर पति और पत्नी प्रेग्नेंट होने के लिए सम्बन्ध बनाते रहे।
पुरुष और स्त्री के बीच अच्छी bonding होनी चाहिए क्यूंकि पति-पत्नी के बीच प्यार न हो तो भी गर्भ ठहरने में दिक्कत आती है. क्योंकि संबंध बनाने के दौरान शरीर की अनिक्षा गर्भ ठहरने में बाधक बन जाती है ।
गर्भ रोकने या गर्भ नीरोधक दवाईयों के प्रयोग से बचें. अन्य दवाओं का प्रयोग भी न के बराबर करें. इनके side effects भी हो सकते है जो गर्भधारण करने में समस्या उत्पन कर सकते है ।
जननांगो के बालों को Remove न करें, ये शुक्राणुओं को जीवित रखने में मददगार होते हैं. बस इनकी नियमित सफाई करते रहें ।
अंडकोष / Testicles को अधिक तापमान से बचाने के लिए अधिक गर्म पानी से स्नान, सॉना बाथ और अधिक गर्म कपडे / जीन्स न पहने, लैपटॉप को जननांगो के ऊपर रखकर काम न करे इन सभी चीजों से शुक्राणुओ का क्षय होता हैं।
सम्बन्ध बनाने के दौरान Lubricants का प्रयोग न करें. क्योंकि Lubricants में उपयोग किए जाने वाले कुछ पदार्थ गर्भ ठहरने में समस्या पैदा कर सकते हैं।
तनावमुक्त रहना गर्भ ठहरने/ Best Pregnancy Tips के लिए बहुत जरूरी है. तनाव वैवाहिक जीवन का मजा तो किरकिरा करता हीं है, साथ हीं यह गर्भ ठहरने में भी दिक्कत पैदा करता है।

इन Best Pregnancy Tips के साथ – साथ योग की कुछ आसन भी Pregnancy के लिए Useful साबित हो सकता है ।

गर्भधारण के लिए योगासन | Yogaasan for pregnancy

1. यसतिकाआसन – मासपेशियों की स्‍ट्रेचिंग सबसे पहले जमीन पर लेट जाएं और दोनों पैरो को सीधा फैला लें। अपने दोनों हाथों को एक साथ सिर के ऊपर की ओर सीधे फैलाएं। उसके बाद अपनी बॉडी को स्‍ट्रैच करें और सांस को अंदर लें। इस क्रिया को तकरीबन 6 मिनट तक के लिये होल्‍ड करें और धीरे से नार्मल हो जाएं।
2 . उष्ट्रासन – यह रीढ़ की हड्डी को मजबूत करता है इस आसन को करने के लिए जमीन पर दरी बिछाकर घुटनों के बल खड़े हो जाएं इसके बाद दोनों घुटनो को मिलाकर तथा एड़ी व पंजों को मिलाकर रखें। अब सांस अंदर खींचते हुए धीरे-धीरे शरीर को पीछे की ओर झुकाकर दोनो हाथों से दोनो एड़ियों को पकड़ने की कोशिश करें। इस स्थिति में ठोड़ी ऊपर की ओर करके रखें व गर्दन को सीधा रखें और दोनो हाथों को भी बिल्कुल सीधा रखें। सामान्य रूप से सांस लेते हुए इस स्थिति में 30 सैकेंड से 1 मिनट तक रहें और फिर धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में आ जाएं। इस आसन को करने से शरीर में खून का प्रवाह आपके सिर में होता है और एनर्जी का लेवल बढता है। साथ ही इससे आपकी रीढ़ की हड्डी में मजबूती आएगी।
3. सूप्‍ता वध्रआसन – इस आसन को करने के लिये पीठ के बल पर लेट जाएं, पैरों को फैला लें। उसके बाद अपने दोनों घुटनों को मोंड़ कर मिला लें। फिर अपने कमर के ऊपर वाले भाग को घुटनों से मिलाएं और नमस्‍ते जैसा पोज बनाएं। इस पोज को 6 सेकेंड के लिये ऐसे ही रहने दें। इस पोज को करने से पेट का निचला हिस्‍सा लचीला बनता है, जिससे बच्‍चे को जन्‍म देना बहुत आसान हो जाता है। इसके आलावा यह रीढ की हड्डी को भी मजबूती देता है, जिससे पीठ दर्द नहीं होती।
4. Kapalbhati प्राणायाम (लयबद्ध तेजी से श्वास) – इसमें केवल अपनी सांसो को अंदर लें और बाहर छोड़े। 5. पश्चिमोत्तानासन – पश्चिमोत्तानासन अंडाशय और गर्भाशय को उत्तेजित करता है।

थोड़ा सब्र करें कुछ लोगों के गर्भ ठहरने में कुछ समय लगता है, और अगर इन Best Pregnancy Tips को आजमाने के बावजूद भी गर्भ न ठहरे तो किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लें ।

गर्भधारण से जुड़े लेख

अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ

Reference Link
hi.wikipedia.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.