premature ejaculation causes and reason in Hindi | शीघ्रपतन होने के कारण


premature ejaculation causes and reason in Hindi, शीघ्रपतन का होना शारीरिक और मानसिक दोनों कारणों से होना संभव हैं । इन विषम परिस्थितयो में पुरुष में असंतुष्टि, ग्लानी, हीन-भावना, नकारात्मक विचारो का आना एवं अपने साथी के साथ संबंधों में तनाव आना मुमकिन है । जिनमे से कुछ 20 अहम कारणों पे हम प्रकास डालते हैं। ……..

Premature ejaculation causes and reason in Hindi




1) हस्तमैथुन / Masturbation : वैसे तो हस्तमैथुन, यौन अवस्था की एक सामान्य प्रक्रिया है और अधिकांश व्यक्ति किसी न किसी रुप मे हस्तमैथुन करते है. लेकिन ऐसा मानना हैं की जो पुरुष बहुमैथुन, अप्राकृतिक तरीके से मैथुन करते है उन्हें शीघ्रपतन की समस्या होने की संम्भावना अधिक होती हैं। हमारा लिंग पूर्णत हड्डी विहीन होता है एवं रक्त संचार हेतु नासिका एवं न्यूरोपेटी ही लिंग को आवश्यक कड़कपन देने का काम करती है. परन्तु बचपन में अत्यधिक मात्रा में की गयी हस्तमैथुन के वजह से अक्सर हम इन नासिकाओ को कमजोर बना देते है जिससे की रक्त के संचार में काफी बाधा पहुचती हैं । हस्तमैथुन से घबराहट और न्यूरोलॉजिकल समस्याएं होती हैं और पुरुषो को क्लाइमेक्स पर पहुंचने की जल्दी होती है जिससे शीघ्रपतन की समस्या स्वतः उत्पन्न हो जाती हैं।

2) उत्तेजना / Excitation : आज के modern समाज में आवश्यकता से ज्यादा pornography ने अपना पाँव फैला रखा हैं । लोग युवावस्था में ही porn videos (अश्लील विडियो) देखकर और porn book (अश्लील किताबे) पढ़कर अपने दिमाग में सेक्स के प्रति इतनी गलत अवधरनाए बना लेते हैं । परिणाम स्वरूप intercourse के दौरान समय से पहले ज्यादा उत्तेजित हो जाते है । परिणामतः शीघ्र वीर्यपात की समस्या उत्पन्न हो जाती हैं।

सेक्स समस्या से जुड़े समाधान जानने के लिए देखे

loading…

3) अज्ञान / Ignorance : हमारे समाज में सेक्स ऐसा विषय है जिसके बारे में बोलना सुनना काफी अश्लील माना जाता है । परिणाम स्वरुप लोगो को कामसूत्र का सही ज्ञान नहीं हो पाता सेक्स से जुड़ा यह अधूरा ज्ञान भी शीघ्रपतन का एक और बड़ा कारण हैं। भारत में युवा वर्ग में इस विषय में कई सारे मिथक फैले हुए है और यहि कारण है की अज्ञान और घबराहट के चक्कर में कई युवाओं में यह समस्या उत्पन्न होती हैं।

4) नसों पर प्रभाव / Neuropathy : मादक पदार्थ जैसे शराब, तम्बाखू, गुटखा, धूम्रपान अथवा किसी शारीरक बिमारी जैसे डायबिटीज, शुगर, पेट संबंधी और पाचन तंत्र से जुड़े रोग के कारण भी शरीर की तंत्रिका प्रणाली पर विपरीत परिणाम देखनो को मिलता है । परिणामस्वरूप लिंग की नसे कमजोर होने से भी शीघ्रपतन की समस्या उत्पन्न हो सकती है हैं।

5) हॉर्मोन / Hormone : मनुष्य की अवस्था और उम्र के हिसाब से शरीर में कई शारीरिक और मानसिक विषंगताएं देखनो को मिलता है जैसे-जैसे उम्र ढलता जाता है शरीर में टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन में कमी आ जाती है और शीघ्रपतन की समस्या उत्पन हो जाती हैं । लेकिन आज के बदलते परिवेश में युवावर्ग में आलस्य और मोटापे के कारण इस हॉर्मोन में कमी युवावस्था में देखनो को मिल जाती हैं ।

शीघ्रपतन से जुड़े अन्य लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
शीघ्रपतन के 12 अचूक इलाजै
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

6) तनाव / Stress : तनाव (Stress) मनःस्थिति से उपजा विकार है। मनःस्थिति एवं परिस्थिति के बीच असंतुलन एवं असामंजस्य के कारण तनाव उत्पन्न होता है। तनाव या चिंता जैसे मानसिक विकारो के कारणों से भी शीघ्रपतन होना आम बात हैं। कुछ लोगों में कोई समस्या न होते हुए भी केवल शीघ्रपतन न हो जाये इस चिंता से भी शीघ्रपतन हो जाता हैं।

7) रोग / Disease : थाइरोइड, कमजोर लिंग (Erectile Dysfunction), डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, पेशाब में संक्रमण, हॉर्मोन्स में गड़बड़ी, विटामिन की कमी और मस्तिष्क में तंत्रिका प्रणाली / Nervous system में गड़बड़ी जैसे कारणों से शीघ्रपतन हो सकता हैं ।

8) भ्रम / myth : शीघ्रपतन के बारे में अधूरे ज्ञान के चलते कई बार लोगो के मन में यह वहम घर कर जाता है की वो शीघ्रपतन से प्रभवित हैं जबकि वास्तिवकता में ऐसा उनके साथ कुछ नहीं होता । यह भी premature ejaculation causes में से एक है ।

premature ejaculation causes and reason in Hindi

premature ejaculation causes and reason in Hindi

9) सेक्स का तरीका / Sex Technique : शीघ्रपतन कभी-कभी गलत सेक्स की पद्धति से भी हो सकता है जैसे की अत्याधिक मौखिक सम्भोग / Oral Sex, अत्याधिक पूर्वक्रिडा / Foreplay इत्यादि।

10) जब किसी कारणवश शरीर में रक्त तथा वीर्य उचित से अधिक मात्रा में बढ़ जाते हैं, तब भी वीर्य-स्खलन जल्दी हो जाता है । ऐसी स्थिति में वीर्य न अधिक गाढ़ा होता है और न अधिक पतला परन्तु लिंग में कड़ापन अधिक होता है ।

11) वीर्य-वर्द्धक औषधियों के सेवन से जब शरीर में अधिक वीर्य जमा हो जाता है, तब मैथुन के समय वह शीघ्र तथा अधिक परिमाण में निकलता है । ऐसा वीर्य न अधिक गाढ़ा होता है और न अधिक पतला । जो की premature ejaculation causes बन सकता है ।

12) वीर्य-नली में सुस्ती अथवा ढीलापन आ जाने से वह वीर्य रोक पाने में असमर्थ हो जाती है, ऐसी स्थिति में वीर्य अपने आप निकल जाता है । वीर्य-नली की न्यूनाधिक कमजोरी के आधार पर ही वीर्यस्खलन के समय न्यूनाधिक चेतना का अनुभव होता है ।
13) वीर्य निकालने वाली नली में तरी तथा खुश्की के कारण जब कमजोरी आ जाती है, तब वीर्य-स्खलन जल्दी हो जाता है । इस स्थिति में वीर्य पतला तथा उसका रंग सफेद होता है और उसमें गर्मी के चिन्ह नहीं पाये जाते । जो की premature ejaculation causes बन सकता है

14) दिल-दिमाग आमाशय व गुर्दे आदि अवयवों के कमजोर हो जाने से भी वीर्य-स्खलन शीघ्र होता है ।

15) कामशक्ति की कमी का मूल कारण भी शरीर में वीर्य की कमी का होना ही समझना चाहिए । कामशक्ति की न्यूनता वाले लोगों का वीर्य भी शीघ्र स्खलित होता है ।

16) भय, चिन्ता, क्रोध, घृणा आदि मानसिक विकार भी premature ejaculation causes बन सकता है ।

17) अनिच्छित स्त्री के साथ सम्भोग में प्रवृत्त होना शीघ्रपतन का कारण बनती है ।

18) परस्त्रीगमन के समय लोक-लज्जा तथा भय आदि की आशंका भी शीघ्रपतन का कारण बनती है ।

19) स्त्री से बहुत दिनों तक अलग रहने के बाद, फिर जब उसके साथ सहवास-क्रिया में प्रवृत्त हुआ जाता है, तब भी शीघ्रपतन हो जाता है ।

20) यदि वीर्य में अधिक गर्मी अथवा तेजी होती है तो उस स्थिति में शीघ्र-स्खलन होता है । ऐसे वीर्य के स्खलन के समय थोड़ी सी जलन अथवा चुभन का अनुभव होता है और उसका रंग पीला होता है। किसी-किसी को पेशाब के समय भी जलन होती है ।




गर्भधारण से जुड़े लेख

संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
प्रेगनेंसी के दौरान क्या खाना चाहिए
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ

कुछ अन्य जरुरी लेख
आजीवन रहे निरोग बस अपनाये यह घरेलु नुस्खे
रोग और उसके प्राथमिक उपचार
वज़न कम करने के तरीकेे
डायबिटीज,मधुमेह,ब्लड प्रेशर का घरेलु इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *