Pregnancy symptoms and sign in Hindi – 18+ गर्भावस्था के लक्षण व संकेत




Pregnancy symptoms and sign in Hindi, गर्भवस्था एक ऐशी अवस्था हैं जिसमे कई दिनों तक महिलाए इस असमंजस में रहती है की उनके दैनिक जीवन में जो भी परिवर्तन दिख रही हैं वो एक sexual disorder हैं या गर्भावस्था के शुरुवाती लक्षण हैं । वैसे तो आज के आधुनिक युग में प्रेग्नेंसी टेस्ट करने के लिए बाजार में कई तरह के प्रेग्नेंसी टेस्ट किट मौजूद हैं । लेकिन गर्भ धारण के आरंभ में ही महिलाओ के शरीर में कई तरह के बदलाव शुरू हो जाते हैं. आप चाहें तो इन गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों से भी आसानी से अंदाजा लगा सकते है कि आप गर्भवती हैं या नहीं.

यहाँ पर आप सभी पाठकगण को यह सुनिशित कर लेना भी जरूरी है कि ये सिर्फ लक्षण हैं. हो सकता है कि महिला में जो लक्षण दिखाई दे रहे हैं वो किसी दूसरी वजह से न हों रहा हो ।

Pregnancy symptoms and sign in Hindi



1. स्‍तनों में भारीपन :- दरअसल, स्‍तनों के ऊतक हॉर्मोन्स के प्रति अति संवेदनशील होते हैं. गर्भ धारण करने के शुरुवाती दिनों में शरीर में हॉर्मोनल चेंज होना शुरू हो जाते हैं जैसे की स्‍तनों में भारीपन, उनके आकार में परिवर्तन और स्‍तनों में नसों का फूलना आदि गर्भावस्‍था के प्राम्भिक लक्षण हो सकते है।

2. निपल्‍स के रंग :- गर्भावस्था के दौरान होने वाले हॉमोर्नल चेंज से melanocytes प्रभावित होती हैं जिससे निपल्‍स के आसपास के हिस्‍से में यानि एरोला में ज्‍यादा कालापन आना जैसे लक्षण को आसानी से Pregnancy symptoms के तौर पर देखा जा सकता हैं ।

3. एस्ट्रोजन नामक हार्मोन में वृद्धि :-एस्ट्रोजन भ्रूण के विकसित व परिपक्व होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एस्ट्रोजन का स्तर गर्भावस्था के दौरान तेजी से बढ़ता है । गर्भावस्था के दौरान एस्ट्रोजन, गर्भाशय और नाल की वृद्धि में सुधार, पोषक तत्वों का हस्तांतरण, और बच्चे के विकास का समर्थन करने के लिए गर्भाशय और नाल को सक्षम बनाता है।

गर्भधारण से जुड़े अन्य लेख
संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
प्रेगनेंसी के दौरान क्या खाना चाहिए
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ

4. माहवारी न आना :-अगर आपके पीरियड्स अनियमित नहीं हैं तो पीरियड का न होना गर्भावस्था के संकेत में प्रमुख है। अगर आपको निर्धारित तारीख से एक सप्ताह तक पीरियड्स न आये तो प्रेगनेंसी टेस्ट से सुनिश्चित कर लेना चाहिए की आप प्रेग्नेंट है या नहीं ।

5. हल्की स्पोटिंग :- कभी-कभी कम मात्रा में योनि से रक्तस्राव हो सकता है। यह गर्भावस्था के शुरू होने के कुछ संकेतों में से एक है। इसे आरोपण रक्तस्राव implantation bleeding के रूप में जाना जाता है, यह तब होता है जब निषेचित अंडे अपने आप को गर्भाशय के अस्तर uterus lining के में स्थापित करता है। यह करीब गर्भाधान के – 10 से 14 दिनों के बाद होता है। आरोपण रक्तस्राव माहवारी के समय के आसपास होता है। हालांकि, यह सभी महिलाओं के साथ नहीं होता।

सेक्स समस्या से जुड़े समाधान जानने के लिए देखे

loading…

6. साँस लेने में परेशानी :- गर्भावस्था के शुरुवाती दिनों में फेफड़ों और डायाफ्राम पर दबाव पड़ना शुरू हों जाता हैं । क्योंकि आपके पेट में पल रहे भ्रूण को ऑक्‍सीजन की आवश्‍यकता होती है जो आपसे ले लेता है । सम्भवतः आपको साँस लेने में भारीपन जैसी समस्या होना आम हैं । जो की early Pregnancy symptoms in hindi हो सकते है ।

7. मितली और उल्टी आना :- गर्भावस्था काल के दौरान अधिकांशतः खाये या बिना खाये मितली और उल्टी की समस्या देखनो को मिलती हैं । वैसे इस तरह के लक्षण कई महिलायो में शुरुवाती दिनों में न होकर बाकी के दिनों में देखनो को मिल सकते हैं और कई महिलाओ को तो होती भी नहीं हैं ।

8. थकान :- गर्भावस्था के शुरू होने पर हार्मोन प्रोजेस्टेरोन का स्तर चढ़ने से महिलाओ में प्रारंभिक लक्षणो में थकान, परेशानी या ज्यादा भावुक होना जैसी समस्या Pregnancy symptoms के तौर पर देखा जा सकता है।

9. बार-बार पेशाब आना :- आप को सामान्य से अधिक बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है। ऐसा इसलिए सम्भव है क्यूंकि गर्भावस्था के दौरान शरीर में रक्त की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे गुर्दे अतिरिक्त तरल पदार्थ उत्सर्जित करने लगता हैं जो की मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकालता है।

10. गंध की भावना :- गर्भावस्था के दौरान महिलाओ में कुछ खाद्य पदाथों के प्रति तीव्र संवेदनशीलता देखनो को मिलती है जैसे कुछ महिलाओं को डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे दूध,दही की गंध, रोटी की गंध, टमाटर आदि की गंध से ही उलटी आने शुरू हो जाती हैं ।

Pregnancy symptoms and sign in Hindi

Pregnancy symptoms and sign in Hindi

11. क्रेविंग :- क्रेविंग यानि अचानक से किसी खास चीजो को खाने की लालसा बढ़ जाती है । अधिकांशतः इन दिनों में महिलाओ को खट्टे चीजो से लगाव कुछ ज्यादा ही बढ़ जाता हैं

12.हल्के क्रैंप और स्पॉटिंग :- पेट में हल्के क्रैंप और स्पॉटिंग जैसे लक्षण इम्प्लांटेशन के दौरान होते हैं। बेहद शुरुआती दौर में कुछ महिलाओं को अधिक क्रैंप महसूस होते हैं।

13. शरीर का तापमान :- गर्भावस्था के दौरान महिलाओ के शरीर का बेसल तापमान सामान्य से अधिक हो जाता हैं ।

14. मनोदशा में बदलाव :-गर्भावस्था के दौरान महिलाओ के खून में ईस्ट्रोजन और प्रोजेस्टीरोन की मात्रा बढ़ने के कारण शरीर में हार्मोन स्तर तेजी से बढ़ता है। जो की मनोदशा को प्रभावित कर सकता है। इन दिनों में सुस्ती, असामान्य रूप से भावनात्मक और रोना, चिडचिडापन, गुस्सा आना, दुखिन होना, एंग्जायटी होना, रोना जैसी Pregnancy symptoms देखनो को मिल सकता हैं ।

15. सिर दर्द :- ब्लड का स्तर बढ़ने से सिर में दर्द, बदन दर्द जैसी दिक्कते देखनो को मिल सकती है । हालाँकि यह समस्या स्वतः ठीक भी हो जाती हैं ।

16. पीठदर्द :- गर्भावस्था के दौरान महिलाओ के लिग्‍मेंट्स लूज होने के कारण पीठ में हल्‍का – हल्‍का दर्द रहना भी early pregnancy sign in Hindi के रूप में देखा जा सकता है ।

17. ऐंठन और कब्ज :- गर्भावस्था की शुरुआत में शरीर प्रोजेस्टीरोन की जितनी मात्रा उत्पन्न होती है, वह जठरांत्र पथ समेत पूरे शरीर की मांसपेशियों के सौम्य उत्तकों को शिथिल कर देता है। यह शिथिलता पाचन प्रक्रिया को धीमा कर देता है, जिससे पेट में फुलाव, डकार, गैस या असहज उत्तेजना पैदा होती है,

18. पॉजिटिव प्रेग्‍नेंसी टेस्‍ट :-मेडिकल साइंस में पॉजिटिव गर्भधारण के आरंभिक लक्षण को सुनिश्चित करने का एक मात्र विकल्प प्रेग्नेंसी टेस्ट किट हैं । इस टेस्‍ट को घर पर बेहद आसान तरीके से पेशाब की बूंदों के द्वारा किया जा सकता है जिससे तुंरत पॉजिटिव या निगेटिव रिजल्‍ट पता चल जाता है

कुछ टेस्ट में गुलाबी या नीली रेखाएं दिखाई देती हैं। कुछ अन्य में प्लस या माइनस के निशान या फिर पेशाब के नमूने के रंग में बदलाव आता है। डिजिटल टेस्ट में “प्रेग्नेंट” या “नॉट प्रेग्नेंट” लिखा हुआ आ जाता है।




**चेतावनी

☻ कुछ प्रतिशत महिलाएं को पूरे गर्भावस्था में मासिक धर्म होता है, मासिक धर्म का आना आपके गर्भवती ना होने का संकेत हमेशा नहीं होता।
☻ अगर आपको सावी और दर्द के साथ ऐंठन हो जो एक तरफ से शुरू होकर काफी बढ़ जाता है तो यह गर्भवती होने का निशान हो सकता है। चिकित्सक से सलाह लें अगर दर्द ज्यादा हो।

कुछ अन्य जरुरी लेख
शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज
आजीवन रहे निरोग बस अपनाये यह घरेलु नुस्खे
रोग और उसके प्राथमिक उपचार
वज़न कम करने के तरीकेे
डायबिटीज,मधुमेह,ब्लड प्रेशर का घरेलु इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *