Pregnancy Diets and Nutritious food in Hindi | प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए


Pregnancy Diets and Nutritious food in Hindi, हर दंपति की यही इच्छा होती है की वह एक स्वस्थ और सुन्दर बच्चे को जन्म दे | लेकिन यह तभी सम्भव है जब आप गर्भवस्था के दौरान संतुलित और पौष्टिक आहार ले | योजना बद्ध तरीके से निर्मित Pregnancy food chart , के माध्यम से ही एक गर्भस्थ स्त्री सभी जरुरी प्रोटीन, विटामिन, कैलोरी तथा अन्य खनिजो को भोजन के द्वारा अपने शरीर में ग्रहण कर सकती है |
आज हम आपको इस लेख के माध्यम से गर्भावस्था के अनुरूप Diet tips for pregnant women in Hindi के बारे में विस्तारपूर्वक दिशा निर्देश देने जा रहे है जिससे की आप भी किसी गर्भस्थ स्त्री के लिए Healthy Pregnancy Diets charts का सही चुनाव कर सके |

Pregnancy Diets and Nutritious food in Hindi



1. फोलिक एसिड :-
फोलिक एसिड (फोलेट) सप्लीमेंट, आपके बच्चे के न्यूरल ट्यूब के दोष के जोखिम को कम करने में सहायक है | फोलिक एसिड (400 माइक्रोग्राम ) डायट में अवश्य शामिल करना चाहिए | इसे तो चाहे आप खाने के रूप में या फिर दवा के रूप में ले सकते है |
फोलिक एसिड युक्त खाद्य पदार्थ जैसे की स्ट्रॉबेरी, संतरे, दलिया, पत्तेदार सब्जियों, फलों का सेवन करके फोलिक एसिड की कमी की पूर्ति कर सकते है |

2. डीएचए :-
Pregnancy Diets में डीएचए एक फैटी एसिड है जो कि बच्चे के दिमाग को ठीक से विकसित करने में मदद करता है. आप दूध, अंडे और जूस के रूप में खाद्य पदार्थों के माध्यम से डीएचए की आपूर्ति कर सकते है |

3. प्रोटीन :-
मांसपेशियों की मजबूती, त्वचा और शारीरिक विकास के लिए प्रोटीन की जरूरत होती है जिसकी पूर्ति आप अपनी डायट में, शाकाहारी हैं तो सोयाबीन, उबले हुए चने,ड्राई फ्रूट्स, दाल, अनाज ,पनीर और टोफू के माध्यम से तथा मांसाहारी लोग चिकन, अंडे और मछली को शामिल करके कर सकते है |

4. कैल्शियम :-
कैल्शियम शारीरक ग्रोथ और हड्डियों के मजबूती के सबसे आवश्यक Nutritious है इसके लिए रोजाना अपनी डायट में डेयरी उत्पाद जैसे की कम से कम 2 गिलास दूध, दही, घी इत्यादि ले | इसके अलावा दलिया, साग, बादाम और तिल के बीज को भी आवश्यक कैल्शियम की पूर्ति के लिए आप अपनी डायट में शामिल कर सकते है |

5. आयरन :-
आयरन के सेवन से प्रसव के दौरान होने वाले एनीमिया, नकसीर से बचा जा सकता है |आयरन की पूर्ति के लिए मांसाहारी लोग मछली, चिकन, मॉस, अंडे की जर्दी को डायट में शामिल करें | शाकाहारी लोग के लिए हरे पत्ते वाली सब्जियां, ब्रोकली, पालक, खुमानी, बीज और चावल, मसूर, मटर, जामुन, सोयाबीन, किशमिश, अनार और केले में भी यह प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है | इसके अलावा अपने डॉक्टर की सलाह पर बाजार में मौजूद आयरन की गोली भी ले सकती है




6. कार्बोहाइड्रेट :-
Pregnancy Diets में कार्बोहाइड्रेट्स, कार्बनिक पदार्थ हैं जिसमें कार्बन, हाइड्रोजन व आक्सीजन होते है। इसमें हाइड्रोजन व आक्सीजन का अनुपात जल के समान होता है।| कार्बोहाइड्रेट युक्त पदार्थ जैसे आलू, साबुत अनाज, अनाज, मीठे आलू यानी शक्करकंदी, फलियां, पालक, जामुन, तरबूज़ खाएं, पास्ता, स्वीट कॉर्न, बीज, नट्स और जई का सेवन कर सकते है |

7. मैग्नीशियम :-
Pregnancy Diets में, मैग्नीशियम हड्डियों के निर्माण में मदद करता है। साथ ही यह इंसुलिन, रक्त शर्करा के स्तर और एंजाइमों के कामकाज को नियंत्रित करता है । खाद्य पदार्थों जैसे बादाम, जई, चोकर, काले सेम, जौ, आटिचोक, कद्दू के बीज, में होता है | सातवें महीने में आपके पैरों में होने वाले ऐंठन को कम करने में मदद करता है |

गर्भधारण से जुड़े लेख

अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ

8. फाइबर :-
भोजन के उचित पाचन के लिए फाइबर की जरुरत होती है | फाइबर की कमी से कब्ज़, बवासीर तथा रक्त में कोलोस्ट्राल और शक्कर की मात्रा बढ़ने की आशंका बनी रहती है | फाइबर की कमी को दूर करने के लिए सब्जियां, फल (ताजा और सूखे), फलियां और साबुत अनाज, मक्का, सफेद सेम, काले सेम, एवाकैडो, गेहूं, पास्ता, भूरा चावल, गेहूं ब्रेड, बंद गोभी, ब्रोकली, पत्तेदार हरी सब्जियां, अजवायन ,फल, साबुत अनाज ब्रेड, अनाज, खजूर आदि अपनी डायट में शामिल करें.

9. विटामिन A :-
विटामिन A खाद्य पदार्थो में पालक, गाजर, शकरकंद, खरबूजा इत्यादि अपने आहार में शामिल करे | विटामिन A दो फार्म में पाए जाते हैं: रेटिनॉल और कैरोटीन। विटामिन A आंखों से देखने के लिये अत्यंत आवश्यक होता है। साथ ही यह बीमारी से बचने के काम आता है। यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों जैसे, स्किन, बाल, नाखून, ग्रंथि, दांत, मसूडा और हड्डी को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है।

10. विटामिन B 6 :-
Pregnancy Diets में, गर्भवती मां को विटामिन B 6 से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए. गर्भवती महिला को अपनी डायट में खट्टे फल, अंडे, हरी पत्तेदार सब्जियां और आलू को शामिल करना चाहिए.

11. विटामिन C :-
विटामिन C कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित करता है, रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है विटामिन C युक्त खाद्य पदार्थो में खट्टे फल, संतरे, मौसमी, आंवला इत्यादि. संतरा, ब्रोकली, और टमाटर विटामिन सी का अच्छा स्रोत हैं. विटामिन सी के लिए तरबूज, नींबू, संतरा, खट्टे फल, ब्रोकली को डायट में शामिल करना चाहिए.

12. तरल पदार्थ :-
निर्जलीकरण से बचने के लिए पेय पदार्थ जैसे की नारियल पानी पिएं, निम्बू पानी, शिकंजी और ताजा फलों के रस ले सकते है | पानी पिने से पहले यह सुनिश्चित कर लेना जरुरी है कि आप स्वच्छ उबला हुआ या फ़िल्टर्ड पानी पी रहे है या नहीं ?

हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

शीघ्रपतन से जुड़े लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.