Important Pregnancy Precaution in Hindi | गर्भधारण के दौरान सावधानियॉ




Important Pregnancy Precaution in Hindi, किसी भी गर्भवती महिला के लिए उसका गर्भावस्‍था के महीने काफी उतार-चढ़ाव भरा हो सकता हैं । गर्भावस्था के दौरान महिलाओ के शरीर में ऐशे कई अनचाहे बदलाव जैसे की – तनाव, वजन बढ़ना, शरीर के कुछ हिस्सो में दर्द होना जैसे की (कमर दर्द, सर दर्द ), मॉर्निंग सिकनेस, भूख न लगना, अनिद्रा जैसी समस्या देखनो को मिल सकती है । ऐशे परिस्थियों में गर्भवती महिला को बिल्कुल भी घबराना नहीं चाहिए । क्योंकि यह सारे बदलाव सामान्य ही होते हैं।

लेकिन अगर गर्भावस्‍था के समय ऐहतियात न बरते जाए तो इन सामान्‍य दिक्कतों के अलावा कुछ गंभीर समस्या का भी गर्भवती महिलाओ को सामना करना पड़ सकता हैं । इन समस्याओ में गर्भपात, भ्रूण का सम्पूर्ण विकास न हो पाना और समय से पहले प्रसव जैसी गंभीर समस्या भी झेलना पड़ सकता हैं ।

किसी के साथ ऐशी दुर्भाग्यपूर्ण घटना न हो इसके लिए हम आपको यहाँ कुछ Important Pregnancy Precaution in Hindi । गर्भधारण के दौरान बरते जाने वाली खास सावधानियॉ बताने जा रहे हैं जिससे की जच्चा-बच्चा को कोई दिक्कत न हो ।

Important Pregnancy Precaution in Hindi




1. चिकित्सक सलाह :-जैसे ही आपको पता चले कि आप गर्भवती है, उसके बाद तुरन्त आप किसी डॉक्टर से संपर्क करे और हर 15 दिनों में अपना जाँच करवाती रहें । और उनके बताये हुए निर्देशो का पालन करे

2. गर्भावस्‍था में रक्त की कमी :-Important Pregnancy Precaution, गर्भावस्‍था के दौरान ब्लीडिंग हमेशा ही एक गंभीर समस्या रहती है लेकिन अगर यह दर्द के साथ होती है तो मिसकैरेज की बहुत अधिक सम्भावना रहती है । इसलिए गर्भावस्था में ऐशे खाद्य-पदार्थ का सेवन करे जिससे आपके शरीर में रक्त का स्तर सामान्य बनी रहे ।

यह भी देखे –
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड

3.गर्भावस्‍था में अधिक पानी आना:- कभी-कभी गर्भवती महिलाओ को यूरीन की जगह पानी आने लगता है, लेकिन यह सिर्फ यूटेरस के सूजे होने और ब्लैडर के भारीपन से होता है।अगर पानी अधिक समय तक निकलता है तो शायद आपका पानी की थैली फट गई और ऐसे में आपको तुरंत अस्पताल जाना चाहिए ।

4 . फीटल किक की गतिविधियों पर ध्यान दे Important Pregnancy Precaution, अगर गर्भ में भ्रूण अधिक घूम नहीं रहा है तो इसका अर्थ है कि उसे प्लेसेन्टा से पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन नहीं मिल रहा है ।
फीट‍ल किक की गतिविधि से भी आप बच्चे की गति का अंदाज़ा लगा सकते हैं, भ्रूण में बच्चे की गति में किसी अजीब परिवर्तन की स्थिति में चिकित्‍सक की सलाह लेना ज़रूरी हो जाता है।

यह भी देखें

loading…

5. फ्लू से सावधान प्रेग्नेंट महिलाओं में फ्लू का खतरा सामान्य लोगों की तुलना में अधिक रहता है। इसका मुख्य वजह प्रेग्नेंसी में शरीर का इम्‍यून सिस्‍टम कमजोर होना होता हैं । जैसे डायरिया, गले में दर्द , सर्दी, खांसी और सर्दी, कमज़ोरी, नाक का बहना, उल्टियां आने जैसी दिक्कत हो सकती हैं । इन परिस्तिथ्यो में चिकित्‍सक की सलाह लेना ज़रूरी होता है बिना अपने चिकित्‍सक के परामर्श से कोई भी दवा का सेवन बिल्कुल भी न करे ऐसा आपके और आपके होने वाले बच्चे के लिए परेशानी का सबब बन सकता हैं ।

यह भी देखे –
खाँसी का घरेलु दवा और इलाज
सर्दी-जुखाम का घरेलु दवा और इलाज

6 . आवश्यक जाँच :- गर्भधारण के समय ब्लड ग्रुप, हीमोग्लोबिन, थाइराइड, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और एचआईवी आदि की जाँच समय समय पर करवाते रहनी चाहिए।

यह भी देखे –
वज़न कम करने के तरीकेे
डायबिटीज,मधुमेह,ब्लड प्रेशर का घरेलु इलाज

Pregnancy Safety Tips in Hindi :-

Important Pregnancy Precaution in Hindi, से जुड़ी कुछ अन्य महत्वपूर्ण सावधानियां

☆ गर्भावस्था के शुरूआती महीनों में folic acid की गोलियों का सेवन करे।
☆ डॉक्टर की सलाह पर गर्भावस्था के आवश्यक टीके लगवाये और आयरन, कैल्शियम की गोलियों का सेवन करे।
☆ गर्भावस्था के प्रारंभिक तीसरे महीने, आठवें और नौवे महीने के दौरान सफ़र न करें।
☆ गर्भावस्‍था के दौरान तंग कपडे जैसे की टाइट जीन्स, लग्गिज, under garment का बिल्कुल भी इस्तेमाल न करे
☆ गर्भावस्था में ऊची एड़ी के सैंडल न पहने।
☆ पेट के बल कोई काम नहीं करना चाहिए|
☆ गर्भावस्था में महिलाओ को बार-बार सीढि़या उतरना नहीं चाहिये न भारी वजन उठाना चाहिये तथा हाथी घोड़ा और ऊट की सवारी करना भी वर्जित है।
☆ गर्भवती को उकड़ू बैठकर काम नहीं करना चाहिये तथा सोकर उठे तो करवट बदल कर उठे सीधे से नहीं उठे।
☆ देर तक आग के पास बैठना या अधिक ठंडे स्थान पर बैठकर कार्य करना झाड़ू, सूप, ऊखल, शख या कंडे पर नहीं बैठना चाहिए ।
☆ गर्भवती के लिये अधिक उपवास करना, गरिष्ट भोजन करना, अविष्ट पदार्थ का सेवन करना वर्जित है। तथा गोंद और गोंद से बनी चीजे कम से कम गर्भावस्था के दिनों में नहीं खाना चाहिए ।
☆ पपीते और अनानास का सेवन न करे, गर्भ गिरने की सम्भावना बढ़ जाती हैं|
☆ अधिक तेजी से हंसना, तेजी से चिल्लाना, अधिक बोलना, बार-बार चिढ़ना हमेशा क्रोध युक्त चेहरा बनाये रखना एवं अपशब्दो का बार-बार प्रयोग करना गर्भवती के लिये वर्जित है।
☆ गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को माउल्ड और सॉफ्ट चीज नहीं खाना चाहिए। अगर आप चीज खाना चाहती हैं तो सुनिश्चित कर लें कि वह पाश्चुरराइड दूध से बना हों।
☆ शराब, स्मोकिंग गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास में काफी नुकसानदायक हो सकता है इसलिए गर्भावस्थाे के दौरान मादक पदार्थो के सेवन से भी बचना चाहिये।

हमारे द्वारा प्रकशित इस लेख ” Like & Share “ करना न भूले जिससे की हमारी यह जानकरी ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंदों तक पहुँचे । हमारे इस प्रयास में भागीदारी बने धन्यवाद !

गर्भधारण से जुड़े लेख

संतान और गर्भधारण प्राप्ति के खास उपाय एवं टोटके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन
अनचाहे गर्भ से बचने के लिए सेक्स पोजीशन
अनचाहे प्रेगनेंसी, गर्भपात के लिए घरेलू नुस्खे
लड़के और लडकियां हस्थमैथुन कैसे और कब करते है
18+ गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व संकेत
11+ घरेलू प्रेगनेंसी टेस्ट के तरीके
गर्भावस्था के दौरान यौन संबंध बनाना सुरक्षित हैं या नहीं
गर्भावस्था में भ्रूण किस प्रकार विकसित होता है
लड़कियों में कब और कैसे शुरू होता है पीरियड
प्रेगनेंसी के दौरान क्या खाना चाहिए

शीघ्रपतन से जुड़े अन्य लेख

शीघ्रपतन क्या है
शीघ्रपतन के कारण
शीघ्रपतन होने के लक्षण व संकेत
30 से भी ज्यादा शीघ्रपतन के घरेलू इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.