Dry Cracked lips Solution in Hindi | सूखे तथा फटे होंठों के लिए घरेलू इलाज




Dry Cracked lips Solution in Hindi, होंठ (Lips) किसी भी स्त्री और पुरुष के आकर्षण और खूबसूरती का मुख्य केंद्र होता है । होठो का स्वस्थ रखना उतना ही आवश्यक है जितना की शरीर के अन्य हिस्से का । बहुत ज्यादा धूप या शुष्क हवा के संपर्क में रहने से ज्यादातर होंठ फटते हैं। सूखे तथा फटे होठ एक समान्य oral समस्या है जो की किसी भी मौशम में किसी भी व्यक्ति को हो सकता हैं ।

इस समस्या को नजरअंदाज करना सौन्दर्य और स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बिलकुल ही गलत है । अगर समय रहते Dry Cracked lips Solution नहीं अपनाये जाए तो आपके प्यारे होठ देखने में बदशूरत लगने लगते है साथ ही साथ होठों में दरारें, दर्द, खून बहना, सूजन, सूखापन, लालिमा जैसी समस्याए भी देखनो को मिल सकती । वैसे आजकल बाजारों में Dry Cracked lips Solution – फटे होंठों को ठीक करने के नाम पर कई lips cosmetic products जैसे क्रीम्स और दवाइयाँ मौजूद हैं । लेकिन सूखे तथा फटे होंठों को सुन्दर,मुलायम और कोमल बनाने के लिए घरेलू नुस्खे ही सबसे कारगर उपाय हैं ।

हमारे द्वारा इस लेख में बताए जाने वाले Topics
☛ Dry Cracked lips causes in Hindi | सूखे तथा फटे होंठों के कारण
☛ Dry Cracked lips symptom in Hindi | सूखे तथा फटे होंठों के लक्षण
☛ Dry Cracked lips solution in Hindi | सूखे तथा फटे होंठों के लिए घरेलू उपचार

Related Links
फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार
सर्दी जुकाम के घरेलू दवा और इलाज
खाँसी का घरेलु दवा और इलाज
ठण्ड से जुड़े रोग एवं उपचार
Diabetes,Sugar,Blood Pressure को control कैसे करे?
गर्भधारण करने के तरीके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन

Dry Cracked lips Solution in Hindi




होंठों के फटने के कारण | Dry Cracked lips causes in Hindi

सर्दियों के मौसम में फटे या रूखे होठ एक आम समस्या है । रूखे और फटे होठों के मुख्य कारण नीचे दिए जा रहे कारणों में से कोई भी हो सकते है ……
1 . निर्जलीकरण
2 . एलर्जी
3 . अत्यधिक धूम्रपान
4 . होठों को बार-बार चाटना
5 . विटामिन की कमी
6 . धूप या शुष्क हवा के संपर्क में रहने से
7 . सर्दियों के दौरान सूखी और ठंडी हवा और मौसम में परिवर्तन ।
8 . सबसे अहम चीज उचित खान-पान की कमी, पानी कम पीने की वजह से शरीर में मॉश्चराइजर की कमी हो जाती है जिससे शरीर में रूखापन और खुश्की जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है ।
9 .होंठो के लिए उपयोग में लाये जाने वाले कॉस्मेटिक चीजे की गुणवत्ता यानी poor quality भी फटे या रूखे होठ की वजह बन सकती है
10 .शरीर में विटामिन ई की कमी, कैल्शियम व आयरन की पर्याप्त मात्रा न मिल पाना, सूखे तथा फटे होंठों की मुख्य वजहो में एक हो सकती है
11. होंठों की सफाई को अनदेखा करना, अगर आप कही धूल-मिट्टी या धूप से आ रहे हो तो चेहरे तथा होठो की सफाई जरुरी हैं नहीं तो फटे या रूखे होठ होना तो निश्चित ही है।

रूखे तथा फटे होंठों के लक्षण | Dry Cracked lips symptom in Hindi

रूखे तथा फटे होंठों के मुख्य लक्षण में होंठों में सूजन व ललापन, सूखापन, जलन, खुरदरापन, होंठों पर दरारें -सिकुड़न और कड़ापन जैसे शुरवाती लक्षण देखनो को मिल सकते है ।
अगर इन शुरवाती लक्षणो पर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया तो इससे गहरी दरारें, खून निकलना तथा असहनीय दर्द जैसी समस्याएं सामने आ सकती हैं।

Dry Cracked lips Solution in Hindi

Dry Cracked lips Solution in Hindi

Dry Cracked lips solution in Hindi | सूखे तथा फटे होंठों के लिए घरेलू उपचार

अगर आप अपने होठों के फटने या कालेपन से परेशान हैं तो नीचे दिए जा रहे Dry Cracked lips solution in Hindi यानि की होठों की समस्‍याओं को दूर करने के लिए घरेलू उपचार से आप अपने होठों की सुन्दरता को चार चांद लगा सकते हैं….

1. शहद : शहद और सुहागा का मिश्रण दिन में 3 बार मलने से होंठों का फटना दूर हो जाता है।

2. नारियल : मोम को नारियल के गर्म तेल में डालकर मिला लें। इसे दिन में 3 बार होठों पर मलने से लाभ होता है।

3. मोम : मोम, गुड़ और राल को बराबर मात्रा में एकसाथ मिलाकर तेल या घी में पकाकर लेप बना लें। इस लेप को होंठों पर लगाने से होठों की कठोरता, दर्द और पीब आदि निकलना बन्द हो जाता है।

4. खीरे : खीरे का पानी लगाने से होंठ नहीं फटते हैं।

5. मक्खन : मक्खन में नमक मिलाकर लगाने से होंठों का फटना बन्द हो जाता है।

6. दही : दही के मक्खन में केसर मिलाकर होठों पर लगाने से होंठ नहीं फटते हैं।

7. मलाई : सर्दियों में खुष्की से होंठ फट जाये तो उन पर आधा चम्मच दूध की मलाई में चुटकीभर हल्दी का बारीक चूर्ण मिलाकर धीरे-धीरे मलने से या लगाने से होंठ चिकने और मुलायम हो जाते हैं।

8. मुलेठी : `वातज´ रोग में मुलेठी, लोबान, राल, गुग्गल, देवदारू को बराबर मात्रा मे मिलाकर पीस लें ओर छान लें। इस चूर्ण को नियमित रूप से होठों पर लगाने से होंठ फटना बन्द हो जाता है।

9. अजमोद : 1 से 4 ग्राम अजमोद के फल के चूर्ण को रोजाना सुबह और शाम खाने से होंठ ही नहीं, शरीर में कही भी त्वचा फटकर खून निकलता हो उसमें लाभ होता है।

10. मेथी : मेथी के बीज का चूर्ण 5 से 10 ग्राम सुबह और शाम गुड़ के साथ खाने से त्वचा या होंठ फटने की वजह से खून निकलने की शिकायत दूर हो जाती है।

11. धनिया : धनिया, राल, गेरू, मोम, घी और सेंधानमक को बराबर मात्रा में लेकर पीसकर और छानकर लेप करने से होंठों के घाव दूर हो जाते हैं।

12. अनन्तमूल : अनन्तमूल की जड़ को पीसकर होंठों पर या शरीर के किसी भी भाग पर जहां पर त्वचा के फटने की वजह से खून निकलता हो लगाने से लाभ होता है।

13. जायफल : जायफल को पीसकर लेप करने से भी होंठ फटने की शिकायत या बिवाई (एड़ियां फटना) की शिकायत दूर हो जाती है।

14. निर्गुण्डी : फटे होंठों पर निर्गुण्डी के तेल को लगाने से आराम मिलता हैं।

15. सरसों का तेल : ठंड़ी हवा के कारण होंठों को फटने से बचाने के लिए रात को सोते समय शुद्ध सरसों के तेल या गुनगुने घी को नाभि में लगाने से लाभ होता है।

16. घी : घी मे नमक मिलाकर रोजाना 2-3 बार नाभि पर लगाने से होंठों का फटना पूरी तरह से ठीक हो जाता है। घी में कपूर मिलाकर होंठों पर लगाने से काफी आराम मिलता है

17. गुलाब :
गुलाब के फूल को पीसकर उसमें थोड़ी सी मलाई मिला लेते हैं। फिर इसे 10 मिनट तक होंठो पर लगाये रहते हैं। इसके बाद इसे धो देते हैं। कुछ दिनों तक इस प्रयोग को करने से होंठों की रंगत सुंदर हो जाती है।
गुलाब की पंखुड़ियों को पीसकर उसमें थोड़ी सी ग्लिसरीन मिला लें। इस मिश्रण को रोजाना होंठों पर लगाने से होंठों का कालापन दूर होता है और होंठ सुंदर बनते हैं। इस दौरान स्त्रियों को लिपस्टिक लगाना बन्द कर देना चाहिए।

18. सिंहोरा : सिंहोरा का दूध लगाने से होंठ या त्वचा के फटने की शिकायत दूर होती है।

19. मूंगफली : नहाने से पहले हथेली में चौथाई चम्मच मूंगफली का तेल लेकर अंगुली से हथेली में रगड़ लें और फिर होंठों पर इस तेल से मालिश करने से होंठ सुंदर बन जाते हैं।

20. मौसमी : होंठों पर मौसमी का रस रोजाना 2 से 3 बार लगाने से होंठों का कालापन दूर होता है और होठ प्राकृतिक रूप से लाल रहते हैं।

21. इलायची : होठों पर जब पपड़ी जम जाती है तो उनके उतरने पर बहुत दर्द होता है। इलायची को पीसकर मक्खन में मिलाकर कम से कम 7 दिन तक रोजाना 2 बार होंठों पर लगाने से लाभ होता है।

22. ग्लिसरीन : ग्लिसरीन को रोजाना 3 बार होंठों पर लगाने से लाभ होता है।

23. बादाम : 5 बादाम रोजाना सुबह और शाम खाने से होंठ नहीं फटते हैं।

24. बादाम रोगन : रात को सोते समय होंठों पर बादाम रोगन लगाकर सो जाएं। इससे सुबह उठने पर पपड़ी हट जायेगी और होंठ मुलायम रहेंगे तथा आगे से होंठों पर पपड़ी भी नहीं जमेगी। हमेशा ध्यान रखें कि होठों पर जमी हुई पपड़ी को नाखून या दांत से कभी नहीं नोंचे और मुंह से सांस न लें।

25. अखरोट : अखरोट की मिंगी (बीज) को लगातार खाने से होंठ या त्वचा के फटने का रोग दूर हो जाता है।

26 चुकंदर : चुकंदर को काटकर उसके टुकड़े को होंठों पर लगाने से होठ गुलाबी व चमकदार बनते हैं।

27. चीनी और नींबू : सर्दियों में अगर होंठ सूख जाएं तो चीनी और नींबू से उसे स्क्र ब कर के ऊपर से वैसलीन से हफ्ते में तीन बार मसाज करें।

28. कच्चे दूध : केसर को बकरी के कच्चे दूध में घोंट कर लगाने से होठ गुलाबी और स्वस्थ होते हैं

29. हल्दी पाउडर और दूध का पेस्ट बनाकर होंठों को एक साफ ब्रश से साफ करके लगाएँ। 2-3 मिनट बाद फिर से ब्रश से रगड़ें। होठों को तौलिए से साफ़ करके एक प्राकृतिक बाम लगाएँ।

30 ऐलोवेरा की पत्ती काटने पर निकले रस की कुछ बूंदें होठों पर लगाएं। इससे आपके होठ मुलायम हो जाएंगें।




(*) Dry Cracked lips Solution related Important Notes

☛ मृत कोशिकाओं को हटाएं (Removing the dead cells) किसी भी उपचार के पहले शरीर की मृत कोशिकाओं को हटाएं। ध्यान रहे कि धीरे धीरे इन कोशिकाओं को हटाया जाए अन्यथा जलन और संक्रमण का ख़तरा बढ़ जाता है।
☛ घर से बाहर कम जाएं. सर्दियों में चलने वाली ठंडी हवा होंठों की नमी छीन सकती है.
☛ होंठो को बहुत अधिक स्क्रब न करें. स्क्रब करने से नमी चली जाती है और होंठ सूखे व बेजान नजर आने लगते हैं.
☛ बार-बार होंठों को चाटें नहीं. दांत से काटने पर भी होंठ फटने लगते हैं.
☛ मैट लिपस्टिक्स का इस्तेमाल न करें. उसके स्थान पर लिप्स को नती देने वाली लिपस्ट‍िक का इस्तेमाल करें.
☛अधिक से अधिक पानी पिएं. पानी पीते रहने से शरीर का तापमान सही रहता है और मॉइश्चर भी संतुलित रहता है.
☛ लिप बाम का इस्तेमाल करना फायदेमंद रहेगा. जब भी घर से बाहर निकलें, लिप बाम की एक मोटी परत लगाकर ही निकलें.
☛ अपने खाने में प्रचुर मात्रा में फल और सब्ज़ियाँ शामिल करें। शरीर में एसिड ज़्यादा होने पर होंठ फटते हैं। अतः शरीर का ph स्तर बनाए रखने के लिए फल और सब्ज़ियाँ खाएं।

संबंधित लेख - Related Post
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *