cracked heel solution in Hindi | फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार




Cracked Heel Solution in Hindi , फटी एड़ियां (cracked heel) सर्दियों के मौसम में होने वाली त्वचा संबंधी समस्याओं (skin infection) से जुड़ी एक आम समस्या है | क्योंकि सर्दियों में खुश्की की वजह से हमारे स्कीन में मॉश्चराइजर की कमी होने लगती है। आमतौर पर ये समस्या ठण्ड के मौसम में ज्यादा देखनो को मिलती है , परन्तु यह परेशानी किसी भी मौशम में (बेमौशम) हो सकती है । इस समस्या का उम्र और लिंग यानि बच्चे,बुढ़े और पुरुष व स्त्री से कोई लेना देना नहीं होता , फटी एड़ियों की समस्या किसी को भी हो सकती है ।
एड़ी व तलवों की त्वचा मोटी होती है, इसलिए शरीर के अंदर बनने वाला सीबम यानी कुदरती तेल पैर के तलवों की बाहरी सतह तक नहीं पहुंच पाता। फिर पौष्टिक तत्व व चिकनाई न मिल पानेकी वजह से ही एड़ियां खुरदरी हो जाती है और इसमें दरारे पड़ने लग जाती है

इस समस्या को नजरअंदाज करना सौन्दर्य और स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से बिलकुल ही गलत है । अगर समय रहते फटी एड़ियों का उपचार नहीं किया जाए तो आपकी एड़ियॉ देखने में बदशूरत लगने लगती है साथ ही साथ चलने फिरने की समस्या, सैंडल-चप्पल और जूता पहनने में परेशानी, फटी एड़ियों में दर्द और समस्या गंभीर होने पर खून का रिसाव भी होने लगता है ।
हमारे द्वारा बताये जा रहे cracked heel solution in Hindi ( फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार) को अमल करके आप अपने एड़ियों को सुन्दर,मुलायम और कोमल बना सकते है ।

हमारे द्वारा इस लेख में बताए जाने वाले Topics
☛ cracked heel causes in Hindi | एड़ियॉ फटने के कारण
☛ cracked heel symptom in Hindi | एड़ियॉ फटने के लक्षण
☛ cracked heel solution in Hindi | फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार

Related Links
सूखे तथा फटे होंठों के लिए घरेलू इलाज
सर्दी जुकाम के घरेलू दवा और इलाज
खाँसी का घरेलु दवा और इलाज
ठण्ड से जुड़े रोग एवं उपचार
Diabetes,Sugar,Blood Pressure को control कैसे करे?
गर्भधारण करने के तरीके
गर्भधारण करने के लिए बेस्ट सेक्स पोजीशन

Cracked Heel Solution in Hindi




एड़ियॉ फटने की कारण | Causes of Cracked Heel in Hindi

☛ शरीर में विटामिन ई की कमी, कैल्शियम व आयरन की पर्याप्त मात्रा न मिल पाना, एड़ियां फटने की मुख्य वजहो में एक हो सकती है
☛ पैरों की सफाई को अनदेखा करना, चप्पल पहनकर या नंगे पैर घूमने से हमारी एड़ियां धूल-मिट्टी की वजह से गन्दी हो जाती है । पैरों की सफाई अगर ठीक ढंग से नहीं की गई तो भी एड़ियों का फटना निश्चित है।
☛ Time to Time जूते और मोज़े (shoes and shocks) की भी सफाई करती रहनी चाहिए । नहीं तो गंदगी की वजह से एड़ियां फटने का डर हो सकता है
☛ स्कीन में मॉश्चराइजर की कमी एड़ियां फटने की वजह बन सकती है ।
☛ पैरो के लिए कॉस्मेटिक चीजे की गुणवत्ता यानी poor quality भी पैर फटने की वजह बन सकती है
☛ डायबिटीज ,थाइराइड,Eczema और त्वचा संबधी समस्या भी एड़ियां फटने का कारण हो सकती है
☛ टाइट और तंग जूते,चप्पल और सैंडल के उपयोग से एड़ियां फट सकती है
☛ सख्त और कठोर जमींन पर ज्यादा देर तक खड़े रहना
☛ सबसे अहम चीज उचित खान-पान की कमी, पानी कम पीने की वजह से शरीर में मॉश्चराइजर की कमी हो जाती है जिससे शरीर में रूखापन और खुश्की जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है ।

cracked heel symptom in Hindi | एड़ियॉ फटने के लक्षण

फटी एड़ियों के मुख्य लक्षण में एड़ी व तलवों में ललापन, खुजली, जलन, खुरदरापन, पैरों के नीचे दरारें -सिकुड़न और कड़ापन जैसे शुरवाती लक्षण देखनो को मिल सकते है ।
अगर इन शुरवाती लक्षणो पर समय रहते ध्यान नहीं दिया गया तो इससे गहरी दरारें, खून निकलना तथा असहनीय दर्द जैसी समस्याएं सामने आ सकती हैं।

Cracked Heel Solution in Hindi

Cracked Heel Solution in Hindi

फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार | Cracked Heel Solution in Hindi

यूं तो बाजार में कई ऐसी क्रीम और दवाएं मौजूद हैं जो फटी एड़ियों को ठीक करने का दावा करती हैं. लेकिन कई लोगो पर यह इतना असरदार नहीं होता अथवा दवा छोड़ने के थोड़े समय बाद समस्या जस की तस रह जाती है । इसलिए फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार यानि की cracked heel home remedies का उपयोग करने में ही समझदारी है ____

1) पेडीक्योर :-
पेडीक्योर का मतलब है पैरों की सुनयोजित तरीके से उचित देखभाल, इस घरेलू विधि के लिए आप टब में गर्म पानी (सहने योग्य) भर लें। इसमें एक नींबू का रस , शैम्पू की 4 -5 बूँदें , गुलाब की पत्तियाँ , सेंधा नमक और चिकने छोटे पत्थर डाल दें । एक आराम दायक कुर्सी पर बैठ जाएँ और अपने दोनों पैर इस गर्म पानी के टब में डुबो लें। रिलैक्स करें और बीच बीच में चिकने पत्थर को पैरों से हल्का दबाएँ। इससे पैरों के एक्यूप्रेशर पॉइन्ट दबेंगे जो आपको रिलेक्स करने में मदद करेंगे। लगभग 20 -25 मिनट तक पैर भिगोने के बाद नेल ब्रश से अपने नाख़ूनो को साफ कर लें। टब में से पैर निकाल कर पौंछ लें।
यह cracked heel solution । फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपचार की सबसे असरदारक विधि है ।

2) पैराफिन वैक्स :-
पैराफिन वैक्स एक नेचुरल एमोल्लिएन्त की तरह काम करता है जो स्किन को मुलायम बनाता है | पैराफिन वैक्स के लिए पैराफिन वैक्स का एक ब्लाक ,दो चम्मच सरसों का तेल (mustard oil ) या नारियल का तेल (coconut oil ) मिला कर गर्म कर ले । इससे तब तक ठंडा होने दें जब तक की इसके उपर एक पतली परत ( layer ) न बन जाए | ठंडा होने के बाद मिश्रण में पैर डुबो कर 10 से 15 सेकंड तक छोड़ दें | इसी तरह कुछ देर तक करें, जब तक की कई परत पैर पर बन नहीं जाती |पैर को प्लास्टिक ( plastic ) से ढक कर 30 मिनट तक छोड़ दें | प्लास्टिक उतार दें और वैक्स को छिल (peeling off ) दें | हफ्ते में दो बार करें |
पैर की एड़ियाँ ज्यादा फट गयी हो और ज्यादा दर्द करती हो तो पैराफिन वैक्स ( paraffin wax ) आपको तुरंत आराम देता है |

3) एक्सफ़ोलिअटिंग स्क्रब (exfoliating scrub) :-
एक्सफ़ोलिअटिंग (exfoliating) स्किन आपके पैर और एड़ी की डेड (dead) स्किन को ख़त्म कर देता है, जो एड़ी को फटने और रूखे होने से बचाती है | एक्सफ़ोलिअटिंग (exfoliating) स्क्रब (scrub) बनाने के लिए हम चावल के आटे का इस्तेमाल कर सकते है |
स्क्रब बनाने के लिये , एक मुट्ठी आटा ,थोड़ी सी शहद, एप्पल साइडर विनेगर (apple cider vinegar) मिला लें | तब तक मिलाए जब तक पतला पेस्ट न बन जाए | अगर एड़ियाँ ज्यादा फटी हो तो एक चम्मच जैतून का तेल ( olive oil ) या बादाम का तेल (almond oil ) मिला लें | 10 मिनट तक गर्म पानी में पैर को डुबो दें और फिर चावल के बने पेस्ट से स्क्रब करें |. कुछ हफ्ते तक ऐसा करें जब तक की आप को अच्छे रिजल्ट्स मिल नहीं जाते |

4) नारियल का तेल : –
रात को सोने से पहले एक बड़ा चम्मच नारियल तेल लेकर उसे फटी हुई एड़ियों पर लगाइए. चाहें तो इसे हल्का गर्म भी कर सकती है. इसकी मसाज से थकान भी कम होगी. उसके बाद जुराबें पहनकर सो जाएं. सुबह उठकर पैरों पानी से धो लें. करीब 10 दिन तक इस उपाय को लगातार करने से एड़ियां मुलायम हो जाएंगी.

5) गुलाब जल व ग्लिसरीन :-
ग्लिसरीन और गुलाब जल को एक साथ मिलाकर उसमें एड़ी भिगोएं। ग्लिसरीन और गुलाब जल से फटी एड़ियों को फौरन राहत मिलेगी। इसमें नींबू और नमक भी मिला सकते हैं। इससे एड़ी में काले धब्बे साफ हो जाएंगे। इस घोल में अपनी एड़ी को 20 मिनट तक रखें। इससे त्वचा का कठोर हिस्सा कोमल होता है। इस घोल का इस्तेमाल कुछ दिनों तक रोज जारी रखें।

6) वैसलीन व बोरिक पावडर :-
डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पावडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसे फटी एड़ियों पर अच्छी तरह से लगा लें, कुछ ही दिनों में फटी एड़ियां फिर से भरने लगेंगी।
7) मैथिलेटिड स्पिरिट :-
गुनगुने पानी में थोड़ा शैंपू, एक चम्मच सोड़ा और कुछ बूंदें डेटॉल की डालकर मिला लें। इस पानी में पैरों को 10 मिनट तक भिगोकर रखें। त्वचा फूलने पर मैथिलेटिड स्पिरिट लगाकर एड़ियों को प्यूमिक स्टोन या झांवे से रगड़कर साफ कर लें। इससे एड़ियों कीमृत त्वचा साफ हो जाएगी। फिर साफ तौलिए से पोंछकर गुनगुने जैतून या नारियल के तेल से मालिश करें।

8) सरसों के तेल,मोम और कपूर का मिश्रण :-
सरसों के तेल में मोम और कपूर मिलाकर लगाने से फटी ऐडियॉ ठीक हो जाती है और दरारे भी भर जाती हैं। ध्‍यान रखें सरसों को तेल गर्म के करने के बाद गैस बंद कर लें और तेल को नीचे उतार कर फिर उसमें कपूर व मोम डालेंं, अगर चलती गैस पर आप उसमें कपूर व मोम डालेगें तो उसमें आग लग सकती है।




(*) Cracked Heel Solution related Important Notes

* अपने पैरों में जरूरी नरमी बनाए रखें। एक अच्छा माश्‍चराइज़र लगाने के बाद सूती मोज़े पहनें। इससे पैरों में जरूरी नमी बरकरार रहती है। आप चाहें तो वनस्पति तेल भी लगा सकती हैं।
* पैरों से मृत कोशिकाओं को हटाने के लिये कभी भी रेजर या ब्‍लेड का सहारा नहीं लेना चाहिये नहीं तो फुट इंफेक्‍शन या फिर तेज घाव हो सकता है।
* जब भी घर में रहें तो हमेशा पांव में जूते या चप्‍पल पहने। कभी भी नंगे पांव नहीं रहना चाहिये।
* बरसात का समय पैरों के लिये बहुत खतरनाक माना जाता है क्‍योंकि इस समय पैरों में बैक्‍टीरियल इन्‍फेक्‍शन होने के बहुत चांस होते हैं। इस समय पैर हमेशा गीले रहते हैं इसलिये बाहर से जब भी घर पर आएं तब अपने पैरों को अच्‍छे से साबुन से धोएं। इसके बाद पैरों को तौलिये से पोंछ कर उन पर तेल से हल्‍की मालिश करें।

संबंधित लेख - Related Post
loading...

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *